ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
विवाद की सूचना पर पहुंची पुलिस पर पथराव, थानाध्यक्ष सहित चार पुलिसकर्मी घायल, टांगी, लाठी, गड़ासा बरामद, मचा हड़कंप
July 18, 2020 • प्रदीप वर्मा • आजमगढ़-मऊ

दो दिन पूर्व से शुरू था विवाद

पुलिस ने चार लोगों को किया गिरफ्तार



जनसंदेश न्यूज
रानी की सराय (आजमगढ़)। अब तो लोगों के जेहन में पुलिस का भय समाप्त होने लगा है। एक जमाना था कि पुलिस का नाम सुनते ही भय से लोग कांप जाते थे और घरों में दुबक जाते थे लेकिन इस समय तो लोग पुलिस से दो-दो हाथ करने को पूरी तरह तैयार हैं। ऐसा ही एक नजारा रानी की सराय थाने के चकीदी गांव में शुक्रवार की रात देखने को मिला। जब विवाद की सूचना पर पहुंची पुलिस भी हमलावरों के हमले का शिकार हो गयी। जब पुलिस खुद ही पिट जा रही है तो ऐसी पुलिस से आम जनमानस की सुरक्षा की उम्मीद कैसे की जा सकती है। इस हमले में थानाध्यक्ष सहित चार पुलिसकर्मी घायल हो गये। चारों को जिला अस्पताल इलाज के लिए ले जाया गया जहां हालत गंभीर देखते हुए कुछ को रेफर कर दिया गया।
रानी की सराय थाना क्षेत्र के चकीदी गांव में राजभर पक्ष से गांव का मुकुंदचंद बाइक लेकर गांव के पासी विरादरी की ओर से जा रहा था। बाइक की गति को लेकर दोनों तरफ से कहासुनी हो गयी। कहासुनी के बीच हुई मारपीट में एक पक्ष से जितेन्द्र, प्रकाश पुत्र मुकुंदचंद, माला पत्नी दलसिगांर राजभर घायल हो गयी। घायलों में माला की हालत गंभीर रही। पीड़ित पक्ष की तहरीर पर दूसरे पक्ष के रामनवल, उमेश, अनिल बिंदल, डिम्पल समेत सात लोगों के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने दूसरे पक्ष के तीन लोगों को शांतिभंग में चालान कर दिया। शाम को एसडीएम के यहां से जमानत मिल गयी। इधर घायल महिला को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
आरोप है कि केवल शांतिभंग में चालान से दूसरा पक्ष आक्रोशित था। शाम को जब सभी जमानत पर छूट कर आये तो दोबारा आमने-सामने हो गये और दोनों पक्षों में मारपीट होने लगी। इसकी सूचना किसी ने डायल 112 को दी। जब डायल 112 पहुंची तो पूरा वाकया देख थाना प्रभारी को घटना से अवगत कराया। सूचना पाकर एसएचओ रामायन सिंह, नायब दरोगा पूर्णमासी, संजय सिंह के साथ पुलिस टीम से पहुंचे तो वहां पर छतो आदि से पत्थर चल रहे थे। दोनों पक्षो के संघर्ष को देख पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ा परन्तु हमले में एसओ रामायन सिंह, दरोगा पूर्णमासी, संजय सिंह सिपाही दीपू सिंह घायल हो गये जिन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया था जहां हालत गंभीर देखते हुए हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया। गंभीर रूप से घायलों का इलाज नगर के निजी अस्पताल में चल रहा है। पुलिस ने मौके पर टांगी, लाठी, गड़ासे आदि बरामद किया है। मौके से पुलिस ने चार लोगों को गिरप्तार किया है।

पुलिस छावनी में तब्दील हुआ चकीदी गांव
आजमगढ़। रानी की सराय थाने के चकीदी गांव में शुक्रवार की देर रात दो पक्षों में एक दिन पूर्व शुरू हुआ विवाद पुनः विकराल रूप ले लिया और दोनों पक्षों में धारदार हथियार से लेकर ईंट पत्थर चलने लगे। जिसकी सूचना पर पहुंची पुलिस जैसे ही मामले को काबू करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया तो हमलावर पुलिस पर भी ईंट पत्थर चलाने लगे। इस हमले में एसएचओ हित कई पुलिसकर्मी घायल हो गये। इसकी सूचना पर गंभीरपुर, सिधारी, निजामाबाद थाने की पुलिस बल के साथ स्कोर्ट, पीएसी बल मौके पर पहुंच गयी। गांव में इस समय शांति बरकरार है लेकिन मौके पर पुलिस के साथ-साथ पीएसी बल भी तैनात है। 

15 नामजद, एक दर्जन अज्ञात पर मुकदमा दर्ज
आजमगढ़। रानी की सराय थाने के चकीदी गांव में शुक्रवार की रात दो पक्षों के बीच घायल हुई पुलिस ने एसआई संजय सिंह की तहरीर पर 15 नामजद एक दर्जन अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने कई संगीन धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया।

पुलिस की कार्यशैली से नाराज था एक पक्ष
आजमगढ़। रानी की सराय थाने के चकीदी गांव में दो पक्षों में हुए विवाद की यदि बात करें तो एक पक्ष द्वारा मारपीट के साथ-साथ घर के टीनशेड से लेकर दरवाजे पर खड़ी बाइकों को भी तोड़ दिया गया था। सूत्रों बताते हैं कि मामला जब थाने पहुंचा तो रानी की सराय पुलिस ने शांतिभंग की धारा में चालान कर मामले को निपटा दिया। इसी बात को लेकरएक पक्ष नाराज था जबकि उस पक्ष की महिलाओं सहित एकाध लोग जिला अस्पताल में काफी चोट की वजह से भर्ती हो गये थे। जमानत से छूटने के बाद शुक्रवार की रात दोनों पक्षों में पुनः विवाद हो गया। पहुंची पुलिस को देख लोग आग बबूला हो गये और विपक्षी के साथ पुलिस पर भी गुस्सा उतार दिया।

एक माह में तीन बार पुलिस पर हुआ हमला
आजमगढ़। दीदारगंज, रौनापार के बाद अब रानी की सराय पुलिस पर भी हमले हो चुके हैं। दो महीने के भीतर तीन बार जनपद की पुलिस हमले की शिकार हो चुकी है। आखिर कौन सा यह कारण है कि लोगों के जेहन में पुलिस का भय समाप्त हो रहा है और जो लोग पुलिस के सामने खड़े होने की हिम्मत नहीं लुटा पाते थे, वे पुलिस के साथ दो-दो हाथ करने को तैयार हैं। यह एक बड़ा सवाल है। पुलिस को अपनी कार्यप्रणाली पर सोचना होगा।

नहीं बख्शा जायेगा कोई, होगी कड़ी कार्रवाई : एसपी सिटी
आजमगढ़। रानी की सराय थाने के चकीदी गांव में घटित घटना की बात करें तो पुलिस विभाग कोई कोताही बरतने को तैयार नहीं है। एसपी सिटी ने बताया कि दो पक्षों में देर रात ईंट पत्थर चलने लगे जिसकी जानकारी पर थानाध्यक्ष दल बल के साथ पहुंचे। ईंट पत्थर चल रहे थे उसी में थानाध्यक्ष सहित अन्य पुलिसकर्मी घायल हो गये। उनका इलाज शहर के निजी अस्पताल में चल रहा है। उक्त लोगों के विरूद्ध संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है, कोई भी हो बख्शा नहीं जायेगा।