ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
वाराणसी में हिस्ट्रीशीटर झुन्ना पंडित के मकान की कुर्की, दोनों हाथ से गोली चलाने में माहिर झुन्ना पंजाब से हुआ था गिरफ्तार
July 11, 2020 • रवि प्रकाश सिंह • वाराणसी-चंदौली

हत्या, रंगदारी समेत दो दर्जन से अधिक मुकदमे हैं दर्ज

पंजाब पुलिस के हत्थे चढ़ा था ये शातिर, चित्रकूट जेल में है निरूद्ध 


रवि प्रकाश सिंह
वाराणसी। अपराधियों के खिलाफ सख्त हुई प्रदेश सरकार जहां ताबड़तोड़ माफियाओं और उसे गुर्गों पर कार्रवाई कर रही है। उसी कड़ी में दर्जनों मामलों में वांछित शातिर हिस्ट्रीशीटर झुन्ना पंडित पर भी स्थानीय प्रशासन ने नकेल कसी और शनिवार को उसके मकान की कुर्की की गई। अपराध से अर्जित इस संपत्ति की लागत लगभग 60 लाख से ज्यादा आंकी गई है। वर्तमान में झुन्ना चित्रकूट जेल में निरूद्ध है। इसके पर तीन दर्जन से ज्यादा मामले शहर के विभिन्न थानों में दर्ज है। 


निमढ़वा लालपुर में तीन सितंबर 2019 को दिव्यांग पान विक्रेता की इसने निर्मम हत्या कर दी थी। इस कांड में उसके अन्य साथियों को भी वाराणसी पुलिस ने धर दबोचा है। कहते हैं दोनों हाथों से गोली मारने वाला ये शातिर लाख जतन के बाद भी वाराणसी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा। पकड़ा भी गया तो पंजाब से। इसके बाद वाराणसी लाया गया और बाद में इसे चित्रकूट जेल में रखा गया तब से अबतक ये वहीं निरूद्ध है। कैंट पुलिस ने इस शातिर के उपर गैंगेस्टर एक्ट में मुकदमा पंजिकृत किया था। हत्या में शामिल सभी आरोपित जेल में बंद है। इस कार्रवाई को एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी, एडीएम सिटी गुलाब चंद्र व क्षेत्राधिकारी मोहम्मद मुस्ताक अहमद की निगरानी में पूरा किया गया। 


2019 तीन सितंबर को मढ़वा में दिव्यांग पान विक्रेता दिलीप पटेल की ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या के मामले में मृतक के भाई प्रदीप पटेल ने झुन्ना पंडित समेत दर्जनों के खिलाफ हत्या समेत अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। उक्त हत्या से पहले पूर्व प्रधान राजेश पटेल के अपहरण कर मारने-पीटने के मामले में भी झुन्ना और उसकी टीम वांछित रही। इसी मामले में प्रदीप पटेल की गवाही से नाराज झुन्ना ने पान विक्रेता की गोली मारकर हत्या कर दी थी।


पंजाब पुलिस ने दबोचा था झुन्ना को
घटना के बाद आरोपितों की गिरफ्तारी वाराणसी समेत अन्य जिलों से हुई, जबकि झुन्ना को पंजाब पुलिस ने नाटकीय ढंग से दबोचा था। उसे वाराणसी लाने में महीनों लग गए थे, तभी से सभी आरोपित जेल में निरुद्ध है। झुन्ना के परिजनों के खिलाफ 120बी के तहत मामला दर्ज किया गया था।