ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
उत्पीड़न से नाराज सहकारी सचिवों ने सौंपा सामूहिक इस्तीफा, एक-एक को सौंपा चार समिति का चार्ज
September 16, 2020 • जावेद अंसारी • वाराणसी-चंदौली



जनसंदेश न्यूज़
चंदौली। सहकारी सचिवों के खिलाफ उत्पीड़ात्मक कार्यवाही से खफा सचिवों ने बुधवार को सामहिक रूप से एआर कोआपरेटिव को इस्तीफा सौंपा दिया। आरोप लगाया कि सचिवों का जबरिया उत्पीड़न किया जा रहा है। एक-एक सचिव को तीन से चार समिति का चार्ज सौंपा गया है। ऐसे में पाश मशीन से अंगूठा लगाकर उर्वरक बिक्री करा पाना एक मुश्किल एवं चुनौतीपूर्ण कार्य है। इसमें सहकारिता विभाग सहयोग करने की बजाय सचिवों पर मुकदमें लाद रहा है, जो पूरी तरह से गलत है।

इस दौरान सचिवों ने सदर ब्लाक सभागार में बैठक की। जिसमें सचिवों द्वारा अपनी विभिन्न समस्याओं से विचार-विमर्श किया गया। कहा कि कर्मचारियों की कमी के कारण एक सचिव के पास तीन से चार समितियों का चार्ज दे दिया गया है। इस कारण कोरोना काल में पाश मशीन में अंगूठा लगाकर उवर्रक बिक्री करने मंे कठिनाई हो रही है। उक्त कठिनाईयों के कारण कुछ सचिवों द्वारा भूलवश हुई गलतियों के कारण उनके उपर उत्पीड़क कार्यवाही हो रही है। जिसे लेकर बीते 11 सितंबर को अपनी समस्या से अवगत कराते हुए कर्मचारियों की कमी एवं कोरोना काल में पॉस मशीन के बिना अंगूठा लगवाये उर्वरक वितरण की अनुमति देने की मांग की गई थी।

इसके अलावा सचिवों पर की जा रही कार्यवाही को रोकने का अनुरोध किया गया था, परन्तु अभी तक इन बिंदुओं पर कोई निर्णय लिया गया, ना ही सचिवों पर हो रही उत्पीड़न कार्यवाही ही रोकी गयी है। साथ ही 13 सितंबर को बरहनी विकास खण्ड के कम्हरियां के सचिव पर एफआईआर भी करा दिया गया है, जबकि हम सचिवों को गत कई वर्षों से नियमित वेतन भी नहीं मिल रहा है। अंत में गुस्साए सहकारी सचिवों ने एआर कोआपरेटिव सोनी सिंह को अपना सामूहिक इस्तीफा सौंप दिया।