ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश कोविड-19/देश-विदेश मनोरंजन/लाइफस्टाइल
UPPCS 2018 : गाजीपुर के कई होनहारों ने लहराया परचम, असिस्टेंट प्रोफेसर बनी डिप्टी कलेक्टर तो किसान का बेटा बना पीसीएस
September 12, 2020 • अजय सिंह उर्फ राजू • इलाहाबाद



जनसंदेश न्यूज 
गाजीपुर। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित पीसीएस 2018 की परीक्षा में जिले के कई होनहारो ने सफलता हासिल किया है। इस प्रतियोगी परीक्षा में  महिलाए भी पीछे नहीं रही है। पीजी कालेज की असिस्टेंट प्रोफेसर दीपशिखा सिंह डिप्टी कलेक्टर बनकर इतिहास रच दिया है। दीपशिखा सिंह वर्तमान में पीजी कालेज में भूगोल विभाग की असिस्टेंट प्रोफेसर है। इन्होंने इंटर तक की शिक्षा बस्ती से तथा हायर एजुकेशन, नेट जेआरएफ बीएचयू वाराणसी से किया है। 
इनके पिता डा. ओम प्रकाश सिंह बस्ती जिलें के शिवहर्ष किसान महाविद्यालय में  अर्थशास्त्र विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर हैं। माता शकुंतला सिंह गृहणी है। दीपशिक्षा के परिवार में काफी लोग अधिकारी के पद पर तैनात है। जिसमें इनकी बड़ी बहन रूपशिखा सिंह बीएचयू में प्रोफेसर हैं। भाई लव कुमार सिंह बंगलौर में साफ्टवेयर इंजीनियर है।  

किसान का बेटा बना पीसीएस अधिकारी
मरदह। पीसीएस परीक्षा  2018 में क्षेत्र के राजगीरपुर हरिहरपुर गांव निवासी किसान ओमप्रकाश पांडेय के पुत्र शिवम पांडेय की सफलता पूरे क्षेत्र में खुशी का माहौल बना हुआ है। शिवम पांडेय का चयन राजकीय इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य के पद पर हुआ है। इनकी शिक्षा इंटर तक जनता आदर्श इंटर कॉलेज लहुरापुर से हुई है।  स्नातक प्रयागराज में करने के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने लगे।  वह 2013 से लगातार पांचवीं बार इसके लिए साक्षात्कार में पहुंचे थे। पिता ओमप्रकाश पांडेय प्रगतिशील किसान हैं उनकी शैक्षिक योग्यता बी टेक है, जबकि इनकी माता श्रीमती गायत्री देवी परास्नातक व गृहणी है। तीन भाइयों में इनके बड़े भाई सत्यम पांडेय खंड विकास अधिकारी पद पर कार्यरत हैं। छोटे भाई सुंदरम पांडेय प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं ।

शम्स तबरेज एसडीएम बनकर जिले का नाम किया रोशन
गाजीपुर। पीसीएस परीक्षा में बारा रोइनी निवासी शम्स तबरेज खां ने भी सफलता हासिल कर एसडीएम बनें है। यह पहली बार में ही पीसीएस परीक्षा उत्तीर्ण कर 42वां रैंक प्राप्त किया। शम्स तबरेज खां की प्रारंभिक पढ़ाई बारा में हुई। मुगलसराय से दसवीं की परीक्षा पास किए। अलीगढ़ विश्व विद्यालय से इलेक्ट्रिकल से बीटेक करने के बाद दो बार आईएएस की परीक्षा दी। वह इंटरव्यू तक पहुंचे, पीसीएस 2018 की परीक्षा में उन्होंने पहली बार में ही 42वां स्थान हासिल किया। पिता हिसामुद्दीन खां रेलवे में कार्यरत हैं और वर्तमान में पीडीडीयू में तैनात हैं। उनकी इस सफलता से परिवार सहित पूरे गांव में जश्न का माहौल है।


सहायक अभियंता की बेटी बनी कमर्शियल टैक्स ऑफिसर
गाजीपुर। उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण सहकारी संघ में सहायक अभियंता के पद पर तैनात इंद्रासन सिंह की पुत्री यूपीपीएससी 2018 की परीक्षा में सफलता हासिल किया। प्रतिष्ठा सिंह यूपीपब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा में कमर्शियल टैक्स ऑफिसर पद पर चयनित हुई है। इन्होंने हाई स्कूल की शिक्षा गोरखपुर तथा इंटरमीडिएट वाराणसी और ग्रेजुएशन लखनऊ से किया है।  लखनऊ से ही बीटेक की डिग्री भी हासिल की। वर्तमान समय में वह दिल्ली से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुटी हुई थी। कमर्शियल टैक्स ऑफिसर के पद पर चयनित होते ही परिवार समेत शुभचिंतकों ने खुशी जाहिर की है। मालूम हो कि इंद्रासन सिंह पड़ोसी जनपद मऊ के चिरैयाकोट के रहने वाले हैं और लंबे अरसे से गाजीपुर में ही ड्यूटी पर तैनात रहे। वहीं, भाजपा एमएलसी यशवन्त सिंह की भतीजी है।