ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
उधारी का पैसा ना चुकाना पड़े, इसलिए पत्नी को धोखे में रखकर चली यह चाल! खुली पोल
July 14, 2020 • जावेद अंसारी • वाराणसी-चंदौली

बकाएदार से पीछा छुड़ाने के लिए दर्ज कराया एफआईआर

जनसंदेश न्यूज़
चंदौली। बकाएदार से जान छुड़ाने व बकाया रकम अदा न करना पड़े इसके लिए औरेया पट्टी गुलाब निवासी गोरखनाथ गुप्ता ने खुद के अपहरण की षड्यंत्र रची। उक्त व्यक्ति ने अपनी पत्नी धोखे में रखकर बकाएदारों के खिलाफ अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करवा दिया, ताकि वे जेल चले जाएंगे और गोरखनाथ को बकाया पैसा न देना पड़े। इसी बीच पुलिस ने सर्विलांस व अन्य माध्यमों से जमा साक्ष्यों के आधार पर गोरखनाथ को बरहनी के पास से धर-दबोचा। सीओ सदर कुंवर प्रभात सिंह ने मंगलवार को पुलिस लाइन कार्यालय उक्त प्रकरण का खुलासा किया।
उन्होंने बताया कि औरेया पट्टी गुलाब निवासी गोरखनाथ गुप्ता ने उपेंद्र सिंह से धान क्रय किया था, जिसका कुछ भुगतान तत्काल कर दिया, वहीं तीन लाख 82 हजार रुपये बकाया था। धान की बोआई का सीजन शुरू होने पर उपेंद्र सिंह बकाए पैसे की अदायगी के लिए लगातार गोरखनाथ पर दबाव बना रहा था। 
इसी बीच एक जुलाई को पैसे का बंदोबस्त करने के लिए सैयदराजा जाने की बात कहकर गोरखनाथ घर से निकला। कुछ देर बाद अपनी पत्नी अनीता गुप्ता को फोनकर बताया कि एक लाख 20 हजार रुपये का बंदोबस्त हो चुका है, लेकिन कार सवार उपेंद्र व उसका लड़का मेरे पीछे पड़े हुए हैं। 
इतना कहकर गोरखनाथ ने फोन काट दिया। इसके बाद किसी अनहोनी की आशंका पर पत्नी अनीता छह जुलाई को कंदवा थाने पहुंची और अपने पति के गायब होने का संदेह व्यक्त करते हुए उपेंद्र सिंह व उसके पुत्र विवेक सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया, लेकिन तफ्तीश में इन दोनों के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला। 
इसी बीच कंदवा थाना प्रभारी तेज बहादुर सिंह ने मुखबिर की सूचना पर बरहनी के पास से गोरखनाथ को पकड़ा। पूछताछ में बताया कि अपहरण का षड्यंत्र रचने के बाद वह गाजीपुर चला गया। ताकि अपहरण के मामले में उपेंद्र व उसका बेटा जेल चले जाएं और मुझे पैसा नहीं देना पड़ेगा।