ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
तेनाली रामा के कृष्णा भारद्वाज ने बताया रामा की कौन-सी बात उसे बनाती हैं खास
July 2, 2020 • डा. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल



जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। सोनी सब जल्द ही दर्शकों के चहेते शोज को वापस लेकर आयेगा। इस चौनल का सबसे पसंदीदा पीरियड ड्रामा तेनाली रामा जल्द ही नये एपिसोड्स लेकर हाजिर होगा। जहां रामा का लक्ष्य होगा, अपनी अद्भुत चतुराई और बुद्धि का प्रयोग कर विजयनगर में परेशानी पैदा करने वाली समस्यााओं का समाधान करना। दर्शकों को अपने प्यारे पंडित रामाकृष्णा की बड़ी याद आयी, जिसने उन्हें  सिखाया कि किस तरह हर परिस्थिति को समझदारी के साथ सुलझाया जाये और पहले से और भी ज्यादा आत्म विश्वाास के साथ उबरा जाये। इस किरदार और शो को दर्शकों ने अपना ढेर-सारा प्यार दिया। वहीं रामा का किरदार निभा रहे कृष्णा  भारद्वाज ने बताया कि उनके लिये यह भूमिका इतनी खास क्यों है और उन्होंने रामा के किरदार से क्या सीखा।  
पंडित रामाकृष्णा  एक भारतीय कवि, विद्वान, विचारक और राजा कृष्ण देवराय के दरबार में एक विशेष सलाहकार थे । इस भूमिका को निभाते हुए, कृष्णा भारद्वाज ने पंडित रामा की कहानियां पेश कीं और हर कहानी के माध्यम से उन्हें  किसी ना किसी रूप में प्रेरित किया। वैसे इस किरदार का प्रभाव कृष्णा भारद्वाज की जिंदगी पर भी काफी पड़ा है। उन्होंने रामा की एक खूबी का खासतौर से जिक्र करते हुए कहा कि वह हर हाल में खुश रहता है। रामा ने मुझे जीवन और फिलॉसफी के बारे में काफी सारी चीजें सिखायीं। साथ ही किसी समस्या का हल किस तरह निकालना है इसके बारे में सिखाया। इस किरदार ने मुझे सबसे अहम बात यह सिखायी कि जीवन को किस तरह से जिंदादिली से जिया जाये। तेनाली रामा का हिस्साह बनने से पहले मैं इतना खुशमिजाज इंसान नहीं था। इस किरदार ने मुझे ज्याादा खुशमिजाज इंसान बनाया है,क्योंमकि  मैं  पहले से ज्यादा मुस्कुाराने लगा हूं,  ज्यादा हंसता हूं और अब जिंदगी को एक अलग नजरिये से देखता हूं। रामा को कोई भी चीज ज्याकदा समय तक परेशान नहीं करती और ऐसा ही होना चाहिये। 
हर कहानी ने दर्शकों को कुछ नया सिखाया क्योंकि रामा ने हर अलग तरह के मामलों को अपनी चतुराई और बुद्धि का इस्तेमाल कर सुलझाया है। हालांकि, खासतौर से एक कहानी ने कृष्णाी भारद्वाज को जीवन का सबक सिखाया है। इस बारे में वह कहते हैं, इस शो में एक ट्रैक था जहां महाराज कृष्णादेवराय, रामा से विजयनगर में 8 मूर्खों की तलाश करने को कहते हैं। इस पर रामा का लाजवाब कर देने वाला उत्तहर मिलता है कि सबसे बड़ा मूर्ख तो खुद पंडित रामाकृष्णा  और राजा कृष्णरदेवराय हैं। इसके पीछे की सोच यह होती है कि ज्ञान या किसी भी मामले में दूसरों को खुद से कमतर समझना अपने आपमें मूर्खता है। इस सबक को मैं जीवन भर गांठ बांधकर अपने साथ रखूंगा और उसका पालन करूंगा। 
रामा के किरदार का उनके जीवन में क्याा महत्व  है, इस बारे में कृष्णां भारद्वाज कहते हैं, यह भूमिका मेरे लिये बहुत ही खास है। मैं खुद को रामा के काफी करीब पाता हूं क्यों।कि मैं बचपन से ही एक आध्यावत्मिक व्याक्ति रहा हूं। मेडिटेशन, फिलॉसफी, मेटाफिजिक्स। जैसी चीजों ने हमेशा मुझे आकर्षित किया है। रामा हमेशा ही जीवन के दार्शनिक और आध्यात्मिक पहलू के साथ हर समस्याि को सुलझाता है और मैं भी ऐसा ही करता हूं। रामा के विचारों और तर्काे में काफी समानताएं हैं, जिसे मैंने हमेशा ही अपने जीवन में लागू किया है। हमारे प्रोड्यूसर कहते हैं कि इस शो में हर एक्टनर वास्तहविक जीवन में अपने किरदार से मिलता-जुलता है। साथ ही मुझे अपने फैन्सह से यह मैसेज मिलता रहता है कि मैं सही मायने में पंडित रामाकृष्णा  का अवतार हूं। वह मुझमें असली रामा को देखते हैं। 
कृष्णात भारद्वाज आगे अपनी बात रखते हुए कहते हैं, इतने लंबे अंतराल के बाद रामा के लुक में दोबारा आकर और इस भूमिका को निभाकर बहुत अच्छाब महसूस हो रहा है। हम लोग तेनाली रामा की शूटिंग में लौट आये हैं, ऐसे में सोनी सब और प्रोडक्श्न सेट पर कुछ बेहद जरूरी नियमों को लागू कर पूरी टीम की सुरक्षा का ध्यांन रख रहे हैं। हम लोग भी उसका पूरा पालन कर रहे हैं और हमें नये एपिसोड लाने का बेसब्री से इंतजार है।