ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
सोनभद्र में अंतरप्रांतीय स्तर पर हो रहा डीजल तस्करी का खेल, संबंधित मौन, अधिकारियों की शह पर फलफूल रहा कालाबाजार 
August 20, 2020 • शशिकांत चौबे • पूूर्वांचल

एमपी बार्डर के बलसोता चेक पोस्ट पर तैनात पुलिसकर्मियों के चश्मे से नहीं दिखता अवैध डीजल का धंधा 

बार्डर पर विभागीय अधिकारियों की शह पर हो रही डीजल की कालाबाजारी

जनसंदेश न्यूज
अनपरा/बीजपुर/सोनभद्र। बार्डर पर डीजल तस्कारी का खेल बेरोकटोक जारी है। इस धंधे से जहां तस्कर मालामाल हो रहे हैं वहीं सरकार को हर माह लाखों की राजस्व की चपत लग रही है। यूपी के एक पेट्रोल पंप से मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले के विभिन्न क्रेशरों, बालू खदानों सहित बड़े ट्रांसपोर्टरों के यहां डीजल खपाने का काम चल रहा है। यह गोरखधंधा विगत कई माह से रफ्तार पकड़ लिया है। 

बताया जाता है कि छोटी गाड़ियों पर बनवाएं गए छोटे टैंकरों में नकटू स्थित एक पेट्रोल पंप से प्रतिदिन डीजल भर के सिंगरौली, मध्य प्रदेश के विभिन्न इलाके में संचालित क्रेशर, बालू खदानों सहित बड़े ट्रांसपोर्टरों के यहां रात-दिन में हजारों लीटर डीजल खपाने का गोरख धंधा तेजी से चलाया जा रहा है। 

यूपी में डीजल के रेट पर नजर डाले तो 75 रुपये 30 पैसे है जबकि एमपी में  81 रुपये 46 पैसे है। इस प्रकार प्रति लीटर 6 रुपये 16 पैसे का अंतर है।  सूत्रों पर गौरव करें तो दो-से तीन रुपण् की प्रति लीटर बचत एमपी के लोगों को हो रही है, तो हर महीने लाखों रुपये के राजस्व का चूना एमपी सरकार को लगाया जा रहा है। गौरतलब हो कि मानक के विपरीत बने इन टैंकरों का विभाग से कोई लाइसेंस नहीं है, बावजूद ज्वलनशील पदार्थ लेकर सड़क पर फर्राटा भर रहे हैं। सूत्रों की माने तो एमपी के विभिन्न स्थानों पर यूपी के बीजपुर, शक्तिनगर, खड़िया पेट्रोल पंपों से डीजल तस्करी का गोरख धंधा बेरोकटोक संचालन के पीछे विभागीय वरदहस्त बताया जा रहा है। 

जानकारी के अनुसार एमपी में स्थापित अनेक पेट्रोल पंप मालिकों का जब धंधा चौपट होता नजर आया तब सभी की आंखे खुली और लोगों की शिकायत पर हरकत में आया सिंगरौली जिले का अमला, जाल बिछाना शुरू किया। लेकिन डीजल के खेल में रातों रात लाखों का वारा न्यारा करने वाले फितरत बाज अब रास्ता बदल कर धंधे को अंजाम देने में लगे हुए हैं। इस बाबत जिलापूर्ति अधिकारी राकेश तिवारी से जब सेलफोन पर फोन किया गया तो उन्होंने फोन उठाना मुनासिब नहीं समझा, इस वजह से उनका वर्जन नहीं मिला।