ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
शौचालय निर्माण में लाखों का घोटाला उजागर! 140 नाम फर्जी, प्रधान और सचिव पर मुकदमा दर्ज
July 6, 2020 • अजय सिंह उर्फ राजू • इलाहाबाद



जनसंदेश न्यूज़
गाजीपुर। सादात ब्लॉक क्षेत्र की ग्राम पंचायत दिलीप राय पट्टी में शौचालयों के निर्माण में लाखों का घोटाला सामने आया है। ग्राम पंचायत अधिकारी व प्रधान के मिलीभगत से सरकारी धनराशि का दुरुपयोग कर लिया। जांच में खुलासा होने पर जिला पंचायत राज अधिकारी के निर्देश पर सहायक विकास अधिकारी ने थाना सादात में ग्राम पंचायत अधिकारी व प्रधान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।
ग्राम पंचायत दिलीप राय पट्टी में शौचालयों के निर्माण में गड़बड़ी किए जाने की शिकायतें मिल रही थीं। इस पर जिला पंचायत राज अधिकारी (डीपीआरओ) अनिल कुमार सिंह ने स्वयं मौके का निरीक्षण कर जांच किया। ग्राम पंचायत में गड़बड़ी की पुष्टि किया। डीपीआरओं ने इस मामले में सचिव को सोमवार को ही निलंबित कर दिए। 
डीपीआरओ अनिल कुमार सिंह ने बताया कि ग्राम पंचायत में 281 शौचालय बनाने के लिए 33 लाख 72 हजार की धनराशि भेजी गई थी। जांच में 140 लोग गांव के निवासी ही नहीं थे। आठ लोगों का शौचालय बना ही नहीं था। लेकिन प्रधान एवं सचिव द्वारा 17 लाख 76 हजार पैसा उतार लिया गया था। जिसके बाद घोटाले में लिप्त ग्राम प्रधान और सचिव पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया गया है। सहायक विकास अधिकारी रमेश चन्द्र यादव ने सचिव अनिल वर्मा और ग्राम प्रधान इंद्रजीत सिंह के खिलाफ थाने में तहरीर दिया है। 
दरअसल, जिला पंचायत सदस्य मारकण्डेय सिंह ने दिलीप राय पट्टी ग्राम पंचायत में शौचालय बनाने के घोटाले को लेकर सीएम पोर्टल सहित अधिकारियों के यहां शिकायत किया था। जिसके बाद जिला पंचायत अधिकारी ने बीते शुक्रवार को गांव में निरीक्षण किया। मामला सही पाए जाने पर कार्रवाई का निर्देश दिया। जिला पंचायत सदस्य ने बताया कि इंद्रजीत सिंह उर्फ मंगला सिंह तीन बार से गांव के  प्रधान है। गांव में प्रधान द्वारा काफी भ्रष्टाचार किया गया है। ग्राम पंचायत में बिना कार्य के ही बहुत से योजनाओं का पैसा उतार लिया गया है।