ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं में अलग होंगे स्वाति और इंद्रेश? 
August 14, 2020 • डॉ. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल



जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। एण्ड टीवी का शो संतोषी मां सुनाए व्रत कथाएं भक्त और भगवान के बीच के पवित्र रिश्ते की कहानी को बहुत ही खूबसूरत तरह से बयां करता है। दर्शक देवी पॉलोमी (सारा खान) के षड्यंत्र के कारण स्वाति (तन्वी डोगरा) और इंद्रेश (आशीष कादयान) के वैवाहिक जीवन में चल रहे संघर्ष को देख रहे हैं। 
संतोषी मां (ग्रेसी सिंह) को नीचा दिखाने के लिए देवी पॉलोमी पूरी दुनिया में नफरत फैलाने की कोशिश करती हैं। जिसे पूरा करने के लिए वो स्वाति की जिंदगी में भी कहर ढाने में कोई कसर नहीं छोड़ती। इस बार, वह डॉ निधि (धरती भट्ट) को अपने वश में करके उसके द्वारा स्वाति और इंद्रेश की शादी को तुड़वाने का दृढ़ निश्चय करती है। 
एक तरफ जहां निधि और इंद्रेश के बीच बढ़ रही नजदीकियों से सिंह परिवार में हर कोई खुश है, तो वही दूसरी तरफ स्वाति उस कमरे से बाहर निकलने की कोशिश में लगी हुई है। जिसमें उसे सिंहासन सिंह (सुशील सिन्हा) ने बंद कर दिया है। इस बीच, संतोषी मां और नारद जी (विशाल बदलानी) भी पाताल लोक में फंसे हुए हैं और लोहितासुर और देवी पॉलोमी के चंगुल से निकलने के लिए उन्होंने हवन करना शुरू कर दिया है।
इस शानदार ड्रामे के बारे में बात करते हुए स्वाति (तन्वी डोगरा) ने कहा, स्वाति को विकट स्थिति का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उसे  इंद्रेश के साथ अपनी शादी को बचाना है। देवी पॉलोमी स्वाति और इंद्रेश के बीच दरार पैदा कर उन्हें अलग करने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है। डॉ निधि के इंद्रेश की जिन्दगी और दिल में सीधी एंट्री के साथ ही स्वाति इस दुविधा में हैं कि वह अपने पति को वापस कैसे जीते और साथ ही कैसे उसे डॉ निधि के चंगुल से मुक्त कराए। 
जहां हर कोई इंद्रेश और निधि को साथ में देखकर खुश है, तो वहीं स्वाति इस खबर को सुनकर हैरान है और वह पूरी तरह से टूट चुकी है। ऐसे में क्या पाताल लोक में फंसी संतोषी मां स्वाति के बचाव में आगे आ सकेंगी या फिर ये स्वाति और इंद्रेश के खुशहाल वैवाहिक जीवन का अंत होगा?