ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
समलैगिंकता की शिकार पत्नी ने बहनों के साथ पति की हत्या कर हाथ-पैर काटे, सभी को बैग में रखकर सीवर में बहाया, खुलासा
August 14, 2020 • जनसंदेश न्यूज • देश-विदेश


जनसंदेश न्यूज़
राजस्थान। जोधपुर पुलिस ने कृषि विभाग में कार्यरत एएओ की हत्याकांड का शुक्रवार को खुलासा किया। पुलिस ने इस मामले में मृतक की पत्नी, दो सालियां और उनके एक परिचित को गिरफ्तार किया है। इस पूरे हत्याकांड की मास्टरमाइंड मृतक की पत्नी थी। पुलिस के अनुसार पत्नी के समलैंगिक रिश्ते होने की वजह से पति-पत्नी के बीच मनमुटाव रहता था। हत्या के बाद शव के घर के बाथरूम में टुकड़े किए गए और फिर कैरी बैगों में हाथ-पैर डालकर सीवर लाइन में बहा दिए गए। पूरी वारदात को एक किराए के मकान में अंजाम दिया गया। 
पुलिस उपायुक्त धर्मेंद्र सिंह यादव के अनुसार नागौर जिले के खाखड़की के रहने वाले चरण सिंह उर्फ सुशील जाट की हत्या के बाद शव के टुकड़े कर उन्हें सीवर लाइन में बहा दिए गए थे। मंगलवार को जोधपुर में बनाड़ स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में दो बैग बहकर आए थे। एक में हाथ-पैर और दूसरे में सिर था। उसी दिन देर रात को मृतक की पहचान कर ली गई।  
बुधवार को बनाड़ पुलिस ने मेड़तासिटी पब्लिक पार्क के सीसीटीवी फुटेज से तफ्तीश शुरू की। फिर दो से तीन लड़कियों सहित सात अन्य से पूछताछ की गई। गहन पड़ताल के बाद सामने आया कि इस हत्याकांड में मृतक की पत्नी सीमा, सालियां प्रियंका, बबीता और उनका एक परिचित भींयाराम शामिल था। इन चारों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 
पूछताछ हुई, तो मालूम चला कि सीमा और चरणसिंह उर्फ सुशील जाट में मनमुटाव था। इनकी शादी वर्ष 2013 में हो गई थी। मगर मुकलावा नहीं हो पाया था। फिर चरण सिंह सीमा पर कुछ बातों को लेकर दबाव बनाने लगा। मगर सीमा शातिर दिमाग वाली थी। वह संभवतः समलैगिंकता का शिकार थी. इसके लिए वह पति चरण सिंह से छुटकारा चाहती थी। 
बीते 10 अगस्त को उसने पति चरणसिंह उर्फ सुशील को फोन कर बुलाया। बनाड़ स्थित एक किराए के मकान पर इन लोगों ने उसे पहले जूस के साथ नींद की गोलियां खिला दीं। इससे नींद आने के बाद उसका गला घोंट दिया गया। फिर बाथरूम में ले जाकर शव के टुकड़े कर दो कैरी बैगों में हाथ पैर व सिर डाल कर बनाड़ के नांदड़ी स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में बहा दिए गए।
सालियों का एक परिचित भींयाराम जोकि मल्टी नेशनल कंपनी में काम करता है। उसका भी सहयोग लिया गया। वहीं पुलिस उपायुक्त यादव के अनुसार इन लोगों ने शरीर के कुछ टुकड़े बहा दिए। फिर धड़ वाला हिस्सा मंडोर के एक इलाके फेंक दिया, जिसका अभी पता लगाया जा रहा है।