ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश कोविड-19/देश-विदेश मनोरंजन/लाइफस्टाइल
प्रो0 निर्मला एस0 मौर्या वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्याल की कुलपति नियुक्त
August 14, 2020 • जनसंदेश न्यूज • वाराणसी-चंदौली


जनसंदेश न्यूज़
लखनऊ। उच्च शिक्षा और शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा, मद्रास की पूर्व कुलसचिव प्रो. निर्मला एस. मौर्या को वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किया गया है। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने प्रो0 निर्मला को पूर्वांचल विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किया है। कुलपति पर इनकी नियुक्ति कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से 3 वर्ष की अवधि के लिए होगी।
प्रो. निर्मला को कुलपति बनाये जाने की खबर मिलते ही उनके परिजनों व चाहने वालों में खुशी की लहर दौड़ गई। भारी संख्या में लोगों ने उनको बधाई एवं नई जिम्मेदारी की शुभकामनाएं दी। 
हिन्दी की विद्वान प्रो. निर्मला एस. मौर्या एक एकेडमिक परिवार से ताल्लुक रखती है। इनके पिता प्रोफेसर एस. कुशवाहा जो भौतिक शास्त्र के विद्वान हैं, वें भी काशी विद्यापीठ, वाराणसी व रांची विश्वविद्यालय के कुलपति रह चुके है। वहीं इनके दोनों छोटे भाई प्रोफेसर अनुराग कुशवाहा व प्रोफेसर साकेत कुशवाहा भी क्रमशः कृषि अर्थशास्त्र और जाने-माने आर्किटेक्ट है।  
वहीं प्रोफेसर निर्मला एस. मौर्या तमिलनाडु हिन्दी साहित्य अकादमी की अध्यक्ष है। इसके साथ ही दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा मद्रास उच्च शिक्षा और शोध संस्थान (विश्वविद्यालय प्रभाग) की पूर्व रजिस्टार और विभागाध्यक्ष है। इन्होंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से बीएससी, एमए, पीएचडी की डिग्रियां हासिल की है। वहीं टी एम भागलपुर विश्वविद्यालय भागलपुर से डी. लिट् की उपाधि हासिल की है। 
इन्होंने हिन्दी के प्रचार प्रसार में अपना अमूल्य योगदान दिया है। इन्होंने कहानी, उपन्यास, काव्य संग्रह सहित कुल आठ पुस्तकें लिखी है। इनके द्वारा हिन्दी के प्रचार प्रसार में दिये गये योगदान को देखते हुए कई सम्मान भी मिल चुके है। जिसमें तमिलनाडु हिन्दी अकादमी द्वारा काव्य के क्षेत्र में और शोध और दक्षिण में हिन्दी अध्यापन में विशेष योगदान के लिए,  शिक्षा प्रद ट्राफिक सुरक्षा सीडी निर्माण में सहयोग हेतु तमिलनाडु राज्यपाल द्वारा, नेहरू आर्ट्स एवं साइंस कालेज कोईम्बटूर के हिन्दी साहित्य सेंटर द्वारा, हिन्दी अकादमी एवं धर्मामूर्ति राय बहादुर कल्वल कण्ण चैट्टी हिन्दू कालेज द्वारा सहित कई सम्मान मिल चुके है।