ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
पीएम मोदी ने फिर सबको चौंकाया, अचानक पहुंचे लेह, 11 हजार फीट की ऊंचाई पर बढ़ाया जवानों का हौंसला, पढ़ें खास बातें...
July 3, 2020 • जनसंदेश न्यूज • देश-विदेश


जनसंदेश न्यूज़
लद्दाख। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक बार फिर सबकों चौंकाते हुए पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में हुए झड़प के 18 दिन बाद लेह पहुंचे। गुरूवार की दोपहर अचानक लेह विजिट कर प्रधानमंत्री ने जवानों से मुलाकात की और उनका हौंसला बढ़ाया साथ ही घायल जवानों का हालचाल भी पूछा। 
चीफ ऑफ डिफेंस जनरल विपिन रावत के लेह पहुंच कर पीएम ने लद्दाख स्थित नीमू बेस पर थलसेना, वायुसेना और आईटीबीपी के जवानों से मुलाकात की। इस दौरान जवानों के अंदर जोश का संचार करते हुए पीएम ने ‘भारत माता की जय’, ‘वंदे मातरम्’ जैसे नारे भी लगाये। इस दौरान सीडीएस बिपिन रावत ने प्रधानमंत्री को लद्दाख की स्थिति को मैप से समझाया। दोनों के बीच करीब 20 मिनट तक बातचीत होती रही।
आपको बता दें कि नीमू बेस 11 हजार फीट की ऊंचाई पर बेहद कठिन इलाकों में से एक है। यह सिंधु के तट पर जांस्कर रेंज से घिरा हुआ है। यहां से 250 किमी दूर दक्षिणी में गलवान में 15 जून को चीन के सैनिकों के साथ टकराव हुआ था।

इस मौके पर पीएम ने जवानों को संबोधित करते हुए उनका हौंसला भी बढ़ाया, पढ़िए खास बातें......

  • कमजोर शांति की पहल नहीं कर सकता। वीरता ही शांति की पहली शर्त होती है। 
  • भारत आज जल, नभ और अंतरिक्ष तक, अपनी ताकत बढ़ा रहा है तो उसके पीछे का लक्ष्य मानव कल्याण ही है। भारत अगर आधुनिक इंफ्रास्ट्रचर का निर्माण कर रहा है तो उसके पीछे का संदेश भी यही है।
  • विश्व युद्ध हो या फिर शांति की बात, जब भी जरूरत पड़ी है, दुनिया ने हमारे वीर जवानों का पराक्रम देखा है और उसे महसूस किया है। 
  • भारत के दुश्मनों ने आपकी फायर भी देखी है और आपकी फ्यूरी भी।
  • मैं गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को आज पुनः श्रद्धांजलि देता हूं। आज हर भारतीय की छाती आपकी वीरता और पराक्रम से फूली हुई है।
  • विस्तारवाद का युग समाप्त हो चुका है। यह युग विकासवाद का है। तेजी से बदलते हुए समय में विकासवाद ही प्रासंगिक है। 
  • बीती शताब्दियों में विस्तारवाद ने ही मानवता का सबसे ज्यादा अहित किया और मानवता को विनाश करने की कोशिश की।