ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
नेशनल स्कॉलरशिप घोटाला: जालसाजों ने जिले के इस बैंक में खोला फर्जी खाता, 25 लाख घोटाले की आशंका
July 19, 2020 • अजय सिंह उर्फ राजू • जौनपुर-गाजीपुर

राजनीतिक परिवार के सदस्य भी जालसाजी में शामिल 



जनसंदेश न्यूज़
गाजीपुर। केंद्र से लेकर प्रदेश सरकार पिछड़े वर्ग के छात्रों को आगे बढ़ाने के लिए तमाम योजनाएं चलाई हैं। जिसके तहत लाभार्थियों को आर्थिक आधार पर शिक्षा लेने में सुविधा मिल सके। लेकिन इन योजनाओं को जालसाज इन लाभार्थियों तक पहुंचने ही नहीं दे रहे हैं। प्रदेश में यदि शिक्षा से जुड़े भ्रष्टाचार की बात करें तो गाजीपुर जिला किसी से कम नहीं होगा। जिले में शिक्षा माफियाओं का बड़ा गिरोह हैं। वह किसी योजनाओं में सरकार की तमाम पारदर्शिता के बावजूद सेंध लगाने में सफल हो जाते है। 
केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण योजना नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल के माध्यम से सभी योजनाओं में शिक्षा माफियाओ द्वारा बैंक से मिलकर घोटाले का साजिश किया गया हैं। सूत्रों के अनुसार शिक्षा व्यवसाय से जुड़े जालसाजों ने जिले के इंडियन बैंक फुल्लनपुर में गैर मुस्लिम छात्रों का फर्जी खाता खोलकर लाखों का घोटाला किया है। इसमें मुख्य रुप से उच्चतर माध्यमिक विद्यालय शिवपुर सोइया के 37 छात्र, भीखमपुर इंटर कॉलेज 16 छात्र, बिरनो ब्लॉक के सरायबन्दी स्थित धुसरूपुर के 14 छात्र, मरदह ब्लॉक के पांडेयपुर राधे स्थित हायर सेकेंडरी में 20 छात्र, बिरनो थाना के धर्मागतपुर रामनारा स्थित उच्च्तर माध्यमिक विद्यालय में 43, हरसरपुर चैबेपुर स्थित इंटर कॉलेज में 59 छात्र, चैबेपुर इंटर कॉलेज में 24  तथा भड़सर बाजार के पास रुक्कापुर जूनियर हाईस्कूल में 25 छात्रों का खाता खोला गया हैं। 
इंडियन बैंक में करीब 238 खातों के माध्यम से लगभग 25 लाख रुपये इन खातों में नेशनल स्कॉलरशिप का नेफ्ट के माध्यम से आया हैं। यह जांच का विषय है कि बैंक इन खातों का पैसा भेजा है या नहीं। फिलहाल यहां घोटाले का अंदाजा लगाया जा रहा हैं। जांच के बाद घोटाले की रकम काफी बढ़ सकती है। माफियाओं ने इस घोटाले में एक बड़ा खेल किया हैं जिसमें कुछ कालेजों के नाम पर भी इस योजना का पैसा उतार लिया हैं। जालसाजों के कार्य की जानकारी होने पर अन्य स्कूल भी पता लगाने में जुट गए है कि, उनके स्कूलों पर तो नहीं उतरा हैं। हैरानी की बात है कि, इन जालसाजों ने एडेड कालेजों को भी नहीं छोड़ा हैं। बताया जा रहा है कि यह मामला 2018-19 का ही है, जांच में बड़े खुलासे हो सकते हैं। इस कार्य मे विभिन्न दलों के राजनीतिक परिवार से भी लोग शामिल हैं जिनका जिले सहित पार्टी में रूतबा भी हैं। इस फर्जीवाड़ा की जिले स्तर से जांच चल रही है।