ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश कोविड-19/देश-विदेश मनोरंजन/लाइफस्टाइल
नीति आयोग की टीम 11 को करेगी बनारस का दौरा, देश के पहले मॉडल ब्लाक के लिए कराये जा रहे कार्यों की लेंगे जायजा
July 2, 2020 • सुरोजीत चैटर्जी • वाराणसी-चंदौली

आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर दी जानकारी

डीएम ने कैंप कार्यालय में मीटिंग में विकास खंड को 21 क्लस्टर में बांटा

हर एक क्लस्टर में एक नोडल अफसर, साथ ही जोनल अधिकारी भी तय

जिलाधिकारी ने दस दिन के भीतर ब्लाक में बदलाव दिखने का दिया वक्त

सुरोजीत चैटर्जी

वाराणसी। देश के पहले मॉडल ब्लाक के तौर पर विकसित किये जा रहे सेवापुरी विकास खंड में कराए जा रहे कार्यों का जायजा लेने 11 जुलाई को नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के नेतृत्व में टीम आएगी। उससे हर हाल में ब्लाक क्षेत्र में बदलाव की शुरुआत दिखनी चाहिए। इसके लिए विभागीय अफसर सप्ताह में तीन दिन सेवापुरी में और शेष दिन अपने कार्यालय में महकमे का कामकाज संभालेंगे। विकास खंड में कराए जा रहे कार्यों की रिपोर्ट न सिर्फ व्हाट्सएप ग्रुप में रोजाना भेजना अनिवार्य है बल्कि प्रत्येक मंगलवार और शुक्रवार को प्रगति का ब्योरा पेश करना होगा।

गुरुवार को नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर सेवापुरी विकास खंड में कराए जा रहे कार्यों की जानकारी ली। साथ ही 11 जुलाई को वाराणसी दौरे के संकेत दिये। उसके बाद डीएम कौशल राज शर्मा ने मॉडल ब्लाक के बारे में कैंप कार्यालय सभागार में बैठक कर संबंधित अफसरों को साफतौर पर निर्देश दिये कि सेवापुरी विकास खंड क्षेत्र में दस जुलाई तक बदलाव दिखना चाहिए।

उन्होंने कहा कि संतृप्तिकरण अभियान में अच्छा कार्य करने वाले कर्मचारी, ग्राम प्रधान और विभागों को पुरस्कृत करेंगे। सेवापुरी ब्लाक क्षेत्र को 21 क्लस्टर में बांटते हुए प्रत्येक क्लस्टर के लिए एक नोडल अफसर तैनात किये। नोडल अधिकारियों की मॉनिटरिंग के लिए जोनल अफसर भी तय किये गये हैं। नीति आयोग ने सेवापुरी विकास खंड को मॉडल ब्लाक के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से चयनित किया है। आयोग के निर्देश के मुताबिक इस ब्लाक को 31 अगस्त तक शत-प्रतिशत संतृप्त करना है।

यह अवधि बीते एक जून से आरंभ हो चुकी है। इसके लिए मीटिंग में जिलाधिकारी ने सभी संबंधित अफसरों को बेहतर विभागीय तालमेल संग कार्य करने को कहा। विकास खंड के 87 गांवों में कुल मिलाकर 136 योजनाओं का लक्ष्य है। श्री शर्मा में महकमों के अधिकारियों को विभागीय स्कीमों से जुड़े ‘कीप  परफॉरमेंस इंडिकेटर’ (केपीआई) की जांच कर लेने के निर्देश दिये। उन्होंने कार्यों के लक्ष्य तिय करने, एचीवमेंट प्राप्त करने की रणनीति बनाने और संपूर्ण टार्गेट हासिल करने में लगने वाले वक्त की टाइम लाइन बनाकर शुखवार दोपहर तक तलब किया।

श्री शर्मा ने विभागीय ट्रेनिंग प्रोग्राम का कैलेंडर तैयार पर पर बल देते हुए कहा कि प्रत्येक विभाग के कार्योंकी प्रगति का आंकलन इंडिकेटर के आधार पर होगा। संबंधित प्रत्येक अधिकारी सप्ताह में तीन दिन सेवापुरी ब्लाक में रहकर अपने-अपने कार्य देखेंगे। शुक्रवार से तीन दिन तक अभियान चलाकर विकास खंड के गांव में सफाई का कार्य शुरु हो जाय। उसके सफाई कार्यों की क्रॉस चेकिंग होगी।

जिलाधिकारी ने नोडल अफसरों को सभी ग्राम पंचायतों में दो दिन के भीतर खुली बैठक कराकर योजनाओं के बारे में लोगों को जानकारी देने और ग्रामीण से सहयोग की अपील करने के निर्देश दिये। साथ ही उन बैठकों के दौरान हरएक गांव के परिवारों का सर्वे कर यह देखने पर भी बल दिया कि पात्रों को सरकारी योजनाओं से लाभ मिल रहा है या नहीं। इसके अलावा जो छूट गये हैं उनकी लिस्ट तैयार कर ली जाय।

उन्होंने प्रत्येक गांव के पंचायत भवन, स्कूल, आंगनबाड़ी केंद्र, हेल्थ सबसेंटर, गौशाला आदि सरकारी भवनों की एकदिन के भीतर फोटोग्राफी कर पेश करने के निर्देश दिये। साथ ही आॅपरेशन कायाकल्प के तहत विद्यालयों को दुरुस्त कराने को कहा। उन्होंने पौधरोपण अभियान की प्रगति बढ़ाने, ब्लाक को हरा-भरा करने के लिए चकमार्ग, तालाब, पंचायत भवन आदि पर पौधे रोपने समेत प्रत्येक परिवार के जरिये एक-एक फलदार पौधा लगवाने पर जोर दिया। मीटिंग में सीडीओ मधुसूदन हुल्गी, डीआरडीए के पीडी उमेशमणि त्रिपाठी, उपायुक्त श्रम रोजगार करुणाकर अदीब आदि भी थे।