ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
मणि मंजरी केस में नया मोड़, पुलिसिया जांच के घेरे में आये ‘नजदीकी’, पूछताछ में सनसनीखेज खुलासे
July 14, 2020 • रोशन जायसवाल • बलिया

चालक ने पूछताछ में किये कई सनसनीखेज खुलासे

जनसंदेश न्यूज़
बलिया। नपं मनियर की ईओ मणि मंजरी राय की मौत के मामले में अब जांच नायब तहसीलदार रजत सिंह की तरफ भी मुड़ गई है। उधर, ईओ की मौत के बाद चालक चंदन वर्मा की पिटाई को लेकर मणि मंजरी के ‘नजदीकी’ भी पुलिसिया जांच के घेरे में आ गए हैं।
ईओ की मौत के मामले में चालक चंदन वर्मा से पूछताछ व मणि मंजरी का सीडीआर खंगालने के बाद मामले के घेरे में मणि मंजरी के श्नजदीकीश् के साथ ही बैरिया के नायब तहसीलदार रजत सिंह भी आ गये हैं। 
चालक चंदन वर्मा से कड़ी पूछताछ के बाद नया खुलासा हुआ है कि चालक को मणि मंजरी की मौत के दो दिन बाद मणि मंजरी के श्नजदीकीश् के जिला मुख्यालय पर स्थित एक तकनीकी विद्यालय पर बुलाया गया। चालक का बयान है कि इसी मामले को लेकर उसे अधिशासी अधिकारी के ‘नजदीकी’ के जिला मुख्यालय स्थित तकनीकी विद्यालय पर मणि मंजरी की मौत के दो दिन बाद बुलाया गया तथा विद्यालय पर उस पर हजम की गई धनराशि को देने के लिए दबाव बनाया गया। 
यही नही, इसी को लेकर उसकी पिटाई भी की गई। चालक ने पूछताछ में खुलासा किया है कि अधिशासी अधिकारी के मोबाइल पर किसी से शादी को लेकर भी बातचीत होती थी। चालक का कहना है कि वह पूर्वान्ह 10 बजे से 4 बजे तक ही मणि मंजरी के साथ रहता था।  चालक ने और कई सनसनीखेज खुलासा किया है।

बयान सत्यापित करने को दो रिश्तेदार तलब
बलिया। पुलिस ने चालक के बयान को सत्यापित करने के लिए मणि मंजरी के दो रिश्तेदारों को तलब किया है, लेकिन रिश्तेदार  पुलिस के समक्ष उपस्थित होने में टालमटोल कर रहे हैं। इस मामले के हाई प्रोफाइल होने के बाद त्वरित जांच में जुटी पुलिस ने मणि मंजरी के मोबाइल नंबर के सीडीआर को भी खंगाला है। इसमें यह स्पष्ट हो गया है कि मणि मंजरी की नायब तहसीलदार रजत सिंह से हमेशा बातचीत होती रहती थी।
 
8 दिन बाद भी नही दर्ज हुआ बयान 
बलिया। ईओ मणि मंजरी राय की मौत के सात दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस तीन अधिकारियो का बयान नही ले पायी है। तहरीर में सिकन्दरपुर के ईओ के ऊपर मुकदमा दर्ज कराया गया। उसके बाद पुलिस ने दो अधिकारियो के बयान हेतु उन्हें नोटिस जारी की है, लेकिन अभी तक उनका बयान दर्ज नही हो पाया हैं।