ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
लंका इंस्‍पेक्‍टर अश्वनी चतुर्वेदी सहित चार पुलिसकर्मी निलंबित, बनारस में भाजपा नेताओं और दरोगा के बीच हुई थी हाथापाई
July 5, 2020 • सुमित चौहान • वाराणसी-चंदौली

जनसंदेश टाइम्‍स की खबर का असर...



जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। बीते दिनों भाजपा नेताओं को पुलिस के साथ हुई झड़प के मामले में एसओ लंका, सुंदरपुर चौकी प्रभारी सहित चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा द्वारा गठित जांच टीम की रिपोर्ट के बाद यह कार्रवाई की गई है। जिसमें पुलिसकर्मियों द्वारा अति उत्साह में उठाये गये कदम को जिम्मेदार ठहराया गया है।
आपको बता दें कि शुक्रवार की देर रात एक पुलिस को सूचना दी गई कि सुंदरपुर में काशी विद्यापीठ के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष विकास पटेल किसी मुकदमे को लेकर किसी पर दबाव बना रहे हैं। इस पर सुंदरपुर के प्रभारी चौकी इंचार्ज सुनील गौड़ ने फैंटम दस्ते के सिपाहियों को मौके पर भेजा। पुलिस का दावा है कि भाजपा नेता ने सिपाहियों को अनाप-शनाप बोलना शुरू कर दिया। जबकि भाजपा नेताओं का आरोप था कि मास्क न होने पर पुलिस ने उनके साथ मारपीट शुरू कर दी। 
विवाद बढ़ने पर विकास ने अपने पिता भाजपा नेता और जिला पंचायत सदस्य सुरेंद्र पटेल को फोन किया। सूचना मिलते ही सुरेंद्र अपने साथ करीब दर्जन भर लोगों को लेकर मौके पर पहुंचे तो विवाद और बढ़ गया और हाथापाई तक की नौबत आ गई। जिसके बाद पुलिस ने कई संगीन धाराओं में भाजपा नेताओं के ऊपर मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया। हालांकि जब मामला ने तुल पकड़ा तो धाराएं हटा ली गई। तब जाकर भाजपा नेताओं की जमानत हुई। 
पूरे प्रकरण की जांच का जिम्मा सीओ भेलूपुर प्रीति त्रिपाठी को दिया गया। जांच रिपोर्ट के बाद एसओ लंका अश्वनी चतुर्वेदी, सुंदरपुर चौकी प्रभारी सुनील गौड़ सहित सिपाही मनोज प्रताप व धर्मेन्द्र को निलंबित कर दिया गया है। 

शासन-प्रशासन के कार्यों में हस्पक्षेप करना भाजपा का स्वभाव नहीं
वाराणसी। लंका पुलिस थाना क्षेत्र में शुक्रवार की रात मॉस्क न पहने होने पर एक भाजपा नेता के बेटे से झड़प के बाद हुए विवाद के मामले को भाजपा नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। 
भारतीय जनता पार्टी काशी क्षेत्र के अध्यक्ष महेश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि शासन-प्रशासन के कामों में हस्पक्षेप करना भाजपा नेताओं का स्वभाव नहीं है।  लेकिन एक कार्यकर्ता के साथ अन्याय और बिना बात के ही उसके ऊपर गंभीर आरोप लगाना सरासर गलत है। चाहे कार्यकर्ता हो या आम नागरिक किसी के साथ भी गलत होगा तो हम उसके खिलाफ आवाज जरुर उठायेंगे। 


पढ़िए जनसंदेश की रिपोर्ट.......

बनारस की लंका पुलिस फर्जी ढंग से थोपती है संगीन धाराएं, भाजपा नेता पर हुई कार्रवाई तो मचा बवाल https://jansandeshtimes.page/article/banaaras-kee-lanka-pulis-pharjee-dhang-se-thopatee-hai-sangeen-dhaaraen-bhaajapa-neta-par-huee-kaarr/TcfOGv.html