ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
लैब टेक्निशियन की रिपोर्ट पॉजीटिव आते ही मचा हड़कंप, आनन-फानन में बंद हुआ अस्पताल, बैरंग लौटे तीमारदार
June 22, 2020 • रोशन जायसवाल • बलिया


जिला महिला अस्पताल पर लटका ताला, सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही उपलब्ध 

जनसंदेश न्यूज़
बलिया। महिला जिला अस्पताल में तैनात लैब टेक्निशियन के कोरोना पॉजीटिप पाए जाने के बाद सोमवार को अस्पताल में हड़कंप मच गया। जल्दी-जल्दी अस्पताल खाली कराने के साथ ही सीएमएस ने अस्पताल गेट पर 24 घंटे के लिए अस्पताल बंद करने की नोटिस चस्पा कर दिया। इस दौरान ओपीडी में इलाज कराने आए मरीज व तीमारदार को बैरंग वापस जाना पड़ा। पूरे अस्पताल में ओपीडी से लेकर चारों ओर बैरिकेडिंग कर दी गई है। हालांकि, आवश्यक सेवाएं चालू है, लेकिन सावधानियों को सख्ती के साथ पालन कराया जाएगा। 
जिले में रविवार के कोरोना बुलेटिन में जो 20 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, उसमें से एक महिला जिला अस्पताल के लैब टेक्निशियन भी शामिल है। दरअसल बीते 19 जून को अस्पताल के अन्य कर्मचारियों के साथ लैब टेक्निशियन का सैंपल जांच करने के लिए लिया गया तो लैब टेक्निशियन की रिपोर्ट ट्रू-नट मशीन में पॉजीटिव आयी। इसके बाद क्रास चेक करने के लिए सैंपल लखनऊ के लैब में भेजा गया, जहां से रविवार को रिपोर्ट पॉजीटिव आने के बाद से ही हड़कंप मच गया था। इसका असर सोमवार सुबह से देखने को मिला। एकाएक ओपीडी बंद होने के साथ-साथ वार्डों को भी खाली कराया गया। हालांकि, इमरजेंसी तथा प्रसव केंद्र खुला रहेगा, लेकिन विशेष एहतियात बरतने के बाद ही आप जा सकते है।

सिर्फ प्रसव और इमरजेंसी वाले ही आए अस्पताल
बलिया। जिला महिला चिकित्सालय के सीएमएस डा. माधुरी सिंह के मुताबिक अगले 24 घंटे तक अस्पताल की हर सेवाएं बंद रहेगी। सिर्फ इमरजेंसी और प्रसव केंद्र को छोड़कर। इस दौरान ओपीडी पूरी तरह से बंद रहेगा। कामभर कर्मचारी ही अस्पताल में रहेंगे। इस दौरान उन्होंने कहा कि अस्पताल गेट पर मुस्तैदी के साथ मरीज से पहले पूछा जाय। इमरजेंसी केस तथा प्रसव संबंधित होने पर ही मास्क आदि सब कुछ जांच कर ही अस्पताल में दाखिला दें।
30 कर्मचारियों का लिया गया सैंपल
बलिया। लैब टेक्निशियन की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद संपर्क में आए कुल 30 अस्पताल कर्मियों का सैंपल सोमवार को लिया गया। अस्पताल भले ही 24 घंटे के लिए बंद घोषित किया गया है, लेकिन स्थिति के हिसाब आगे कुछ भी हो सकता है। ऐसे में एक बार फिर लॉकडाउन वाली स्थिति उत्पन्न होगी। ओपीडी बंद होने के कारण मरीजों को तमाम तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।