ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
खाली नहरें और बिजली की आंखमिचौली ने बढ़ाई किसानों की मुश्किलें, बर्बाद होने की कगार पर तैयार फसल
September 17, 2020 • जनसंदेश न्यूज • आगरा


जनसंदेश न्यूज़
सुल्तानपुर। जिले के जयसिंहपुर ब्लाक के गोसाईगंज के आसपास की गांव की किसानों को इस समय धान की सिंचाई के लिए कॉफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। न बारिश हो रही है और न नहर में पानी आ रहा है। किसान सिर्फ अपनी निजी साधनों पर निर्भर है।

धान की फसल तैयार है और सिर्फ एक सिंचाई की आवश्यकता है। ऐसे में सिंचाई का निजी साधन ही बचा है। नलकूप से सिंचाई के लिए बिजली भी ज्यादा समय तक नहीं रह रही है और। शारदा सहायक खंड 19 से निकली नहर जिससे कम से कम 8 से 10 गांव मिश्रौली फाजिलपुर सैदपुर अन्नपूर्णा नगर छतौना आदि गांव के किसानों के खेतों की सिंचाई होती है। वो भी इस समय सूखा है नहर में पानी न आने की वजह से किसानों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। 

लोग बहुत दूर-दूर से पाइप लगाकर नलकूप से पानी लाने को मजबूर और निजी साधनों पर ही निर्भर हैं। इन सब समस्याओं के बीच बिजली भी खूब आंख मिचौली कर रही है। बिजली के बार-बार कट आउट होने से एक खेत की सिंचाई के लिए 2 से 3 दिन लग रहे हैं। ऐसे में क्षेत्र के जिम्मेदार लोगों और नहर विभाग के अधिकारियों को किसानों की समस्या को समझना चाहिए और समस्या का जल्द से जल्द निस्तारण करना चाहिए। जिससे तैयार धान की फसल पानी की वजह से न बर्बाद हो।