ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश कोविड-19/देश-विदेश मनोरंजन/लाइफस्टाइल
जिस जेसीबी ने रोका था पुलिसकर्मियों का रास्ता, उसी जेसीबी से ढहाया गया विकास दुबे का किलेनुमा मकान, एसयूवी कारों को भी नहीं बख्‍शा
July 4, 2020 • जनसंदेश न्यूज • देश-विदेश


जनसंदेश न्यूज़
लखनऊ। यूपी में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर सनसनी मचाने वाले हिस्ट्रीशीटर विकास दूबे पर पुलिस का शिकंजा कसता जा रहा है। शुक्रवार को काफी देर तक चले मुठभेड़ में जहां उसके भाई और मामा को मार गिराया गया। वहीं शनिवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए उसके ही जेसीबी से गांव स्थित उसके महलनुमा मकान को धरासाई कर दिया गया। यही नहीं जिला प्रशासन ने घर में खड़े ट्रैक्टर और दो एसयूवी कारों को भी तोड़ दिया। 
शनिवार की सुबह ही जिला प्रशासन और पुलिस की टीमें विकास दुबे के गढ़ माने जाने वाले बिकरु गांव पहुंच गई। जिला प्रशासन ने उसके किलेनुमा मकान को उसी जेसीबी से धरासाई कर दिया। जिस जेसीबी से विकास ने पुलिसकर्मियों का रास्ता रोका दिया। विकास को पकड़ने के लिए पुलिस की 100 टीमें ऐसे इलाकों में दबिश दे रही है, जहां उनके रिश्तेदार या करीबी रहते है। दूसरी तरफ पुलिस विभाग के चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी को मुखबिरी के शक में सस्पेंड कर दिया गया है। एसटीएफ उनसे पूछताछ कर रही है।
सीएम के निर्देश के बाद बड़े स्तर पर चलाये जा रहे अभियान के दौरान पुलिस ने अब तक इस मामले में पूछताछ के लिए 12 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस को आशंका है कि विकास सरेंडर के लिए कोर्ट में एप्लिकेशन डाल सकता है। इसके चलते सभी जिलों की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है।
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर संदिग्धों को ट्रेस किया जा रहा है। उन लोगों की लिस्ट भी तैयार की जा रही है, जिन्होंने पिछले 24 घंटे में विकास दुबे से फोन पर बात की थी। करीब 250 नंबरों को सर्विलांस पर लिया गया है।