ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
जीवन में सर्वोपरि होता है शिक्षक का स्थान-शशिबाला मिश्रा
September 6, 2020 • सुभाष मिश्रा • पूूर्वांचल



जनसंदेश न्यूज़
मीरजापुर। जिले में स्थित एस बी एस कान्वेंट स्कूल में शनिवार सुबह भारत के प्रथम उप राष्ट्रपति डॉ0 सर्व पल्ली राधाकृष्णन की जयंती 5 सितम्बर शिक्षक दिवस के रूप में मनाया गया। जिसमें कोविड-19 के परिदृश्य में सोशल डिस्टेंसिंग एण्ड यूज ऑफ मास्क को दृष्टिगत रखते हुये विद्यालय की शिक्षिका शशिबाला मिश्रा ने डॉ0 सर्व पल्ली राधाकृष्णन के चित्र पर माल्यार्पण कर बताया कि जिन्दगी में शिक्षक का बड़ा महत्व होता है। 

उन्होंने कहा कि ऐसा जरूरी नहीं है कि शिक्षक सिर्फ पढ़ाई में ही बच्चों की मदद करते हैं, बल्कि वो जिंदगी में आगे बढ़ने और सही दिशा में बढ़ने की राह भी दिखाते है। शशिबाला मिश्रा ने बताया कि शिक्षण एक बहुत ही अच्छा पेशा है जो एक व्यक्ति के चरित्र, क्षमता और भविष्य को संवारता है। अगर लोग मुझे एक शिक्षक के रूप में याद करते है तो मेरे लिए यह सबसे बड़ा सम्मान होगा। शिक्षक का स्थान किसी भी व्यक्ति के जीवन में सर्वोपरि होता है। इसलिए कहा गया है कि गुरु के बिना ज्ञान नहीं। गुरु का होना बहुत आवश्यक होता है क्योंकि ज्ञान के बिना मनुष्य का जीवन अंधकार में रहता है। कहा कि गुरु बच्चों के अन्दर ज्ञानरूपी दीपक को प्रज्वलित करके प्रकाश की ओर ले जाते है। इस दौरान विद्यालय में उपस्थित शिक्षक, शिक्षिकाओं द्वारा डॉ0 राधाकृष्णन के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया गया।