ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
जब ग्रेसी सिंह अपनी भक्त के लिए असल जिन्दगी में बनीं संतोषी मां 
August 4, 2020 • डा. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल


जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। एक एक्टर के लिये सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात यह होती है कि उसके प्रशंसकों को उसके ऑनस्क्रीन किरदार से लगाव हो जाए। एण्डटीवी के संतोषी मां सुनाये व्रत कथाएं में संतोषी माँ की भूमिका निभा रहीं ग्रेसी सिंह ऐसी ही एक एक्टर हैं। उनके संतोषी मां के किरदार के लिये देश भर के प्रशंसकों का उन्हें भरपूर प्यार मिल रहा है। ग्रेसी तीन साल से भी ज्यादा समय से यह रोल कर रही हैं, उन्हें अपने किरदार से काफी लगाव है, इसलिये वह पर्दे पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करती हैं।
हाल ही में उन्हें एक सुखद सरप्राइज मिला, जब उनका शो देखने वाली एक फैन ने उन्हें संतोषी मां कहकर सम्बोधित किया। हाँ, यह सच है! उनकी भक्त उनके पास पहुँची और एक समस्या सुलझाने में उनकी मदद मांगी! अपने भक्तों में से एक का, दिल को छू लेने वाला संदेश साझा करते हुए ग्रेसी सिंह ने कहा, ‘मैं सचमुच दर्शकों की शुक्रगुजार हूँ, जिन्होंने मेरे किरदार के लिये मुझे परफेक्ट फिट माना है। मुझे कई प्रशंसकों और दर्शकों के संदेश मिलते हैं, जो मुझे धन्यवाद देते हैं, शुभकामनाएं देते हैं और शो के दृश्यों की तारीफ करते हैं। लेकिन इस फैन ने मुझे सचमुच चौंका दिया। मुझे संतोषी मां कहकर सम्बोधित करते हुए मेरे सबसे छोटे फैन्स में से एक मीनाक्षी ने अपनी एक समस्या सुलझाने के लिये मेरा मार्गदर्शन मांगा। मेरे किरदार संतोषी माँ के प्रति उसका अटूट विश्वास और भक्ति देखकर मैं चकित रह गई।
एक अलौकिक भूमिका निभाने से ग्रेसी को न केवल ऐसे प्रशंसकों का सहयोग करने में मदद मिली, जिन्हें उनकी जरूरत थी, बल्कि एक व्यक्ति के तौर पर भी यह उनके लिये मददगार रहा। अपने किरदार और उससे अपने जीवन में आई सकारात्मकता के बारे में ग्रेसी ने कहा, ‘संतोष की देवी का किरदार निभाने से मेरे भीतर एक अलग तरह की स्थिरता और शांति आई है। मुझे लगता है कि संतुष्टि सबसे बड़ी शक्ति है, जिसके लिये बहुत इच्छाशक्ति चाहिये। इस शो में संतोषी मां अपनी भक्त स्वाति (तन्वी डोगरा) के जीवन की मार्गदर्शक है और हर कठिनाई से उसे बचाती है। और अलग-अलग तरह की व्रत कथाओं ने भी उसके जीवन की सभी समस्याओं के समाधान खोजने में उसकी मदद की है। यह एक देवी के प्रति एक भक्त की अनन्य भक्ति की कहानी है, जिसमें वह कई चुनौतियों से निपटने और विजयी होने में उसकी मदद करती है।