ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
एसडीएम की गुंडई, दुकान में घुसकर दुकानदारों पर बरसाई लाठी, फरियादियों को भी दौड़ा-दौड़ा कर पीटा 
August 20, 2020 • तिलक कुमार • कानपुर-गोरखपुर



जनसंदेश न्यूज़
बलिया। फरियादियों की फरियाद सुनने के बजाय बिल्थरारोड एसडीएम गुरुवार को किसी बात पर अपना आपा खो बैठे और फरियादियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने लगे। इस दौरान जान बचाकर भाग रहे फरियादियों को पुलिसकर्मी भी नहीं बख्शे और जमकर उनपर लाठियां बरसा दी। एसडीएम यहीं नहीं रूके और बाहर निकलकर जो दुकानदार दुकान खोलकर अपना सामान बेच रहे थे, उनकी दुकान में घुसकर जमकर गुंडई की, दुकानदारों का न सिर्फ कॉलर पकड़ा बल्कि अंधाधुंध लाठियां बरसा दी, जिससे एक दुकानदार का हाथ फट गया। एसडीएम के उग्र रूप देख एक तरफ जहां स्थानीय लोग सहमे हुए हैं, वहीं एसडीएम की कार्यशैली को लोग गुंडई और दबंगई का नाम दे रहे हैं। इस घटनाक्रमण का वीडियो वायरल होते ही प्रतिक्रियाओं का बाजार गर्म है।  

गौरतलब हो कि गुरुवार को तड़के सुबह जैसे ही बिल्थरारोड तहसील खुला, फरियादी अपनी-अपनी फरियाद लेकर उनके चेंबर पर जाने लगे। इसबीच अचानक एसडीएम ने आपा खो दिया और तहसील परिसर में फरियादियों को मारना-पिटना शुरू कर दिया। इसके बाद अपनी जान बचाकर जब फरियादी भागने लगे तो एसडीएम ने दौड़ा लिया। अन्य फरियादियों पर भी एसडीएम ने जमकर लाठियां बरसाई। इस दौरान तहसील परिसर में खड़े पुलिसकर्मी भी फरियादियों पर टूट पड़े और उन्हें दौड़ा-दौड़ा कर पीटने लगे। 

इसके बाद एसडीएम पुलिसकर्मियों के साथ तहसील से बाहर निकल आए और जो भी दुकानें खुली मिली, उस दुकान के अंदर घुसकर उनपर लाठियां बरसाना शुरू कर दिया। इस दौरान एसडीएम दुकान के अंदर घुसकर जमकर गुंडई की और दुकानदारों का कॉलर पकड़कर उन्हें मारने-पिटने लगे। जिससे एक दुकानदार का हाथ फट गया, पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद चर्चाओं का बाजार गर्म है, कोई एसडीएम को अधिकारी के वेश में गुंडा तो कोई दबंग कह रहे हैं।

किसी के साथ मारपीट करना एसडीएम की फितरत
बैरिया। तत्कालिन उपजिलाधिकारी अशोक चौधरी बैरिया में भी अपने कार्यकाल के दौरान तहसील के ठीक पास वाले गांव मिश्र के मठिया गांव में लाक डाउन के शुरुआती दौर में मकान बना रहे राज मिस्त्री और मजदूरों को मास्क न पहनने व सामाजिक दूरी को लेकर बुरी तरह से मारापीटा था। लॉक डाउन के अनुपालन के लिए बैरिया तिराहे पर मास्क न पहनने वालों पर भी एसडीएम ने लाठियां बरसाई थी, इसके अलावा बाइक पर तीन सवारी व रानीगंज बाजार में बैंक जा रहे बिना मास्क के लोगों को भी मारापीटा था। स्थानीय लोगों की मानें तो  एसडीएम अशोक चौधरी का किसी के साथ मारपीट करना उनकी फितरत बन गई है।  

हमसे क्या भूल हुई जो हमको सजा मिली
बलिया। चोट खाने के बाद खून से लथपथ दुकानदार रजत का कहना है कि हमसे क्या भूल हुई है जो एसडीएम ने उनको मारापीटा। कहा कि मैं एसडीएम के खिलाफ कानून का दरवाजा खटखटाऊंगा। एसडीएम कोई प्रशासनिक अधिकारी नहीं बल्कि एक बदमिजाज, दबंग और गुंडा किस्म के शख्स है।  

सवाल के जवाब में कन्नी काट गए एसडीएम
बलिया। घटना के सिलसिले में जब एसडीएम बिल्थरारोड अशोक चौधरी से संपर्क किया गया तो उन्होंने पूरी बात सुनने के बजाय बताया कि मैं अभी डीएम के साथ मीटिंग में हूं। कुछ बता नहीं सकता।

इस संबंध में सीओ रसड़ा कृष्ण प्रताप सिंह ने कहा कि एसडीएम हो या फिर कोई और, कानून सबके लिए बनाया गया है। पीड़ित पक्ष की ओर से तहरीर मिलने पर एसडीएम के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।