ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
डीपीआरओ ने प्रधानों व सचिवों को कहा चोर! हुए लामबंद, लगाया भ्रष्टाचार का आरोप
June 19, 2020 • अजय सिंह उर्फ राजू • जौनपुर-गाजीपुर


जांच के नाम पर धौंस दिखाकर प्रधानों व सचिवों का आर्थिक शोषण


जनसंदेश न्यूज 
गाजीपुर। जिला पंचायत राज अधिकारी के खिलाफ शुक्रवार को विकास भवन परिसर में प्रधान संगठन एंव सचिवों ने जमकर धरना प्रदर्शन किए। धरनार्थियों ने इनके खिलाफ नारेबाजी कर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। साथ ही इनके उपर सभी कर्मचारियों से दुर्व्यवहार का भी आरोप लगाया। वहीं मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता को प्रधान संगठन ने डीपीआरओ के खिलाफ पत्रक देकर विभागीय जांच कर उचित कार्रवाई करने की मांग की है।
विकास भवन परिसर में डीपीआरओं अनिल कुमार सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों एवं ग्राम प्रधान संगठन ने कहा कि यह खुद भ्रष्टाचार में लिप्त है और दूसरों पर वसूली का दबाव बनाते है। धरनार्थियों का कहना था कि विगत बुधवार को विकास भवन सभागार में मनिहारी, सादात, मरदह व सैदपुर की सचिव व प्रधानों की एक बैठक बुलाई गई थी। बैठक में डीपीआरओ द्वारा प्रधान व सचिव को चोर का दर्जा दिया गया जो निंदनीय है। इस बयान से जनपद के सभी ग्राम प्रधान आहत हैं। जिले के समस्त ग्राम प्रधान इनके इस अपमान भरे बर्ताव की घोर निन्दा करते हैं। आरोप लगाया कि  जनपद के समस्त ग्राम पंचायतों में बिना शिकायत के जांच करने पहुंच जाते हैं। धौंस दिखाकर प्रधानों व सचिवों का मानसिक व आर्थिक रूप से शोषण कर रहें है। 
इस मौके पर रमेश यादव, दारा यादव, मदन यादव, दिपक सिंह, रंजीत यादव, संतोष सिंह, सोती यादव, विनय, उषा, सियाराम, आरती, रामअशिष बब्लू सिंह, अशोक यादव, राकेश सहित अन्य ग्राम प्रधान उपस्थित रहे।

पंचायत भवन के साथ शवदाह स्थल में धन उगाही
गाजीपुर। प्रधान संगठन ने आरोप लगाया वर्तमान में 32 पंचायत भवन बनने के लिए शासन से धनराशि आया था। पंचायत भवन के आवंटन में डीपीआरओ द्वारा धन उगाही कर मानक विहीन आवंटन किया गया है। इसके बाद शवदाह स्थल भी बनाने के लिए भारी भरकम बजट मिला है। लेकिन इसमें भी धन उगाही की गई है। इसके दूर्व्यवहार व  उत्पीड़न से अघात होकर जनपद के सभी ग्राम प्रधान, शौचालय निर्माण, कायाकल्प, वृक्षारोपड़, मनरेगा सहित सभी विकास कार्यों को बन्द करने का निर्णय लिया है। सारे विकास के जिम्मेदार डीपीआरओ होगें। ऐसे दशा में डीपीआरओ अनिल कुमार सिंह को हटाए जाने की मांग की।

डस्टबीन घोटाले में डीपीआरओ थे संस्पेंड
गाजीपुर। गरूआ मकसुदपुर ग्राम प्रधान संजय राय उर्फ मन्टू ने कहा कि डीपीआरओ जो खुद चोर है। वो दूसरे को क्या चोर बनाएगा। अभी कुछ ही महीनों पूर्व का मामला है। जहां हरदोई जनपद में डस्टबीन घोटाले सहित आठ बिन्दुओं पर आरोप सिद्ध होने पर  सस्पेंड किया गया था। लेकिन ऐसे भ्रष्टाचारीयों को जनपद में भेज दिया गया। अपनी आदतों से बाज न आकर इस जनपद में भी भ्रष्टाचार का खेल जारी कर दिया।

जांच के नाम पर 25 से 50 हजार की वसूली
गाजीपुर। प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष भयंकर यादव ने कहा कि जब तक डीपीआरओ को इस जनपद से हटाया नहीं जाएगा तब तक विकास कार्यों का बहिष्कार किया जाएगा। कहा कि अगर इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है तो प्रधानों का संगठन आन्दोलन के लिए बाध्य होगा। डीपीआरओ द्वारा ग्राम पंचायतो में जांच के नाम पर 25 से 50 हजार रुपए की वसूली भी बड़े स्तर पर किया जा रहा है।