ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
दर्द से तड़पती रही गर्भवती महिला एक घंटे बाद पहुंची एबुलेंस, सड़क किनारे ही जना बच्चा
August 23, 2020 • शशिकांत चौबे • पूूर्वांचल

एम्बुलेंस न मिलने पर प्रसव पीड़िता को बाइक से अस्पताल ले जा रहे थे परिजन

जनसंदेश न्यूज
बभनी/सोनभद्र। स्वास्थ्य सुविधाओं की व्यवस्था कितनी हाई टेक हो गयी है, यह तब देखने को मिला जब बभनी सामुदायिक अस्पताल से आधा किमी पहले मुख्य अंतर्राज्यीय राज्य मार्ग पर वन विभाग कार्यालय के सामने सड़क पर कहराते हुए महिला ने बच्ची को जन्म दे दिया। करीब एक घंटे बाद चिकित्सक द्वारा एम्बुलेंस को भेजा गया और महिला को सड़क से उठाकर ले गयी। 

प्रसव पीड़ित एक महिला ने रविवार को सड़क पर ही एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया। महिला अनपरा की रहने वाली है और कुछ दिनों से अपने मायके आयी थी। रविवार की सुबह महिला को प्रसव पीड़ा होने लगी तो परिजन उसे मोटर साइकिल से अस्पताल लेकर जा रहे थे कि बभनी रेंज कार्यालय के समीप अचानक महिला को तेज दर्द हुआ और सड़क पर महिला ने एक बच्ची को जन्म दे दिया। फुलकुमारी 25 पत्नी लालबहादुर निवासी अनपरा अपने मायके बभनी थाना के अरझट गांव आयी थी। 

प्रसव पीड़िता राधिका ने स्वास्थ्य विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि घंटो से एम्बुलेंस के लिए फोन लगाया जा रहा था लेकिन एम्बुलेंस नही मिली। एक घंटे तक महिला प्रसव के बाद सड़क पर कहराती पड़ी रही। लाक डाउन के कारण सड़कों पर भी गाड़ीया कम थी। ग्रामीणों ने सड़क पर पड़ी महिला की मदद के लिए एम्बुलेंस को रोका लेकिन मरीज बताकर चालक चलता बना। मामले की शिकायत बभनी अधीक्षक से करने के थोकी देर बाद अधीक्षक ने एक एम्बुलेंस भेजकर महिला को अस्पताल जाकर उपचार कराया।

एक घंटे तक सड़क किनारे कराहती रही महिला
प्रसव के बाद सड़क पर एक घंटे तक महिला पड़ी रही, लेकिन एम्बुलेंस नही मिली। उसके परिजन जन स्वस्थ्य विभाग को कोसते रहे। बभनी की स्वास्थ्य सुविधाएं कितनी मजबूत है, यह सड़क पर किलकारी मार रोती बच्ची को देखकर पता चलता है। महिला ने एक खुबसूरत बच्ची को जन्म दिया इस बावत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बभनी के अधीक्षक डा.गिरधारी लाल से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की जानकारी नही है मैं कोई व्यवस्था करता हूं तब तक कोई साधन मिले तो परिजन पीड़िता को अस्पताल तक पहुंचाए। एम्बुलेंस की व्यवस्था लखनऊ  से संचालित होती है।