ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
चेयरमैन प्रतिनिधि बोले-मुझे मारने की रची जा रही है साजिश! एक ही कार्य का पांच बार कराया जा चुका है जांच
September 16, 2020 • रोशन जायसवाल • पूूर्वांचल



जनसंदेश न्यूज़
बैरिया/बलिया। नगर पंचायत बैरिया के चेयरमैन प्रतिनिधि शिवकुमार उर्फ मन्टन वर्मा ने कहा कि राजनीतिक साजिश के तहत मुझे फंसाने की नियत से सात वर्ष पुराने ग्राम पंचायत बैरिया में कराए गए विकास कार्यों की जांच बार-बार कराई जा रही है। अभी तक कुल पांच बार इसकी जांच हो चुकी है। सभी जांचों में यह स्पष्ट है कि कोई भी गड़बड़ी नहीं पाई गई है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2019 में विभिन्न कार्यों की सीडीओ की अध्यक्षता में जांच हुई थी। जिसमें तकनीकी टीम के लोग भी शामिल हुए थे, उसमें 28 अगस्त 2020 को 88300 रुपया की रिकवरी का निर्देश दिया गया था। जिसे मैंने भर दिया था।

उसके बाद भी माननीय उच्च न्यायालय में वाद दाखिल कर जांच के लिए वर्ष 2014 से 2017 तक की प्रक्रिया पुनः जांच कराई गई जिसमें दूसरी बार 63000 रुपया रिकवरी कराई गई है। जिससे मैंने जमा कर दिया है मुझे लगता है कि अब इसके बाद जांच प्रक्रिया बंद हो जानी चाहिए मैं जांच से डरने वाला नहीं हूं। लेकिन पुराना कार्य जांच होगा तो गुणवत्ता का घटना लाजमी है। लेकिन फिर भी बार-बार कुछ राजनैतिक लोग साजिश के तहत मुझे फंसाने का प्रयास करते है जो बंद होना चाहिए। 

श्री वर्मा  ने बैरिया विधायक व बैरिया के प्रभारी निरीक्षक पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है  कि बैरिया विधायक के दबाव में बैरिया एसएचओ अपराधियों से मिलकर मेरी हत्या करा सकते हैं। इसकी जानकारी मैंने मुख्यमंत्री, प्रमुख सचिव, विधानसभा अध्यक्ष, जिलाधिकारी बलिया व पुलिस अधीक्षक बलिया को दे दिया है। उन्होंने बताया कि लगभग साढ़े तीन महीना पहले बैरिया बाजार में एक व्यक्ति के द्वारा मेरे और मेरे साथ रहने वाले 14 लोगों के ऊपर 307 एवं एससी एसटी एक्ट के तहत फर्जी मामला दर्ज कराया गया था। जांच में वह फर्जी पाया गया है। फर्जी मेडिकल के तहत  मुकदमा दर्ज हुआ था।

श्री वर्मा ने बताया कि दो दिन पहले एक जमीन के विवाद में पंचायत करने गए थे कि वहां बैरिया के पूर्व प्रधान सूरज पासवान के बच्चे व पत्नी भिड़ गये। बीच बचाव करने का प्रयास किया उसमें मुझे पता चला कि मेरे खिलाफ एससी एसटी एक्ट का मुकदमा दर्ज कराया गया है। विधायक ने कई फर्जी मुकदमा मेरे उपर कराया है। मुझे आशंका है कि उक्त दोनों लोग मेरी अपराधियों  से मिलकर हत्या करा सकते है।