ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
चंदौली के इस गांव में वांछितों को पकड़ने पहुंची पुलिस की जीप को ग्रामीणों ने घेरा, एएसपी पहुंचे तो.....
July 13, 2020 • आरिफ हाशमी • वाराणसी-चंदौली

एएसपी नक्सल ने लोगों को समझा-बुझाकर कराया शांत

आरोपित युवकों को रिहा करने पर माने ग्रामीण

जनसंदेश न्यूज़
चंदौली। क्षेत्र के अदसड़ गांव दो वांछित युवकों को हिरासत में लेते गए कंदवा पुलिस को ग्रामीणों ने घेर लिया। खुद को चौतरफा ग्रामीणों से घिरा देखकर थाना प्रभारी टीबी सिंह ने एएसपी नक्सल अनिल कुमार को प्रकरण से अवगत कराया और मदद मांगी। इसके बाद मौके पर पहुंचे एएसपी ने आक्रोशित ग्रामीणों की बात सुनी और उनकी मांग के अनुरूप हिरासत में लिए गए दोनों युवकों को छोड़ दिया। साथ ही यह भी भरोसा दिया कि किसी भी व्यक्ति के साथ पुलिस अन्याय नहीं करेगी। 
बताते हैं कि प्रमोद मौर्य के पुत्र संतोष व सौरभ अपने खेतों पर काम कर रहे थे, तभी चार बाइक पर सवार होकर पहुंचे कंदवा थाने के सिपाही दोनों को हिरासत में लेकर थाने ले गए। इसके कुछ समय बाद थाना प्रभारी टीबी सिंह हमराहियों संग पहुंचे। इसकी जानकारी होते ही आक्रोशित ग्रामीणों ने थाना प्रभारी टीबी सिंह समेत पुलिस कर्मियों को चारों ओर से घेर लिया। 
ग्रामीणों का आरोप था कि कंदवा पुलिस गांव के ग्रामीणों संग अन्याय कर रही है। फर्जी मुकदमें में युवकों को फंसाकर उनका जीवन बर्बाद करना चाहती थी। ग्रामीण संतोष को रिहा करने की मांग कर रहे थे। आक्रोशित ग्रामीणों से चहुंओर घिरा देख थाना प्रभारी कंदवा ने मामले से एएसपी नक्सल को अवगत कराया। इसके बाद पुलिस कर्मियों के बंधक होने की सूचना पर एडिशनल एसपी नक्सल अनिल कुमार पहुंचे और ग्रामीणों को समझा बुझाकर शांत कराया। आश्वासन दिया कि चंदौली में पूरी सुनवाई होगी। किसी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। इसके बाद लगभग 12 बजे ग्रामीणों ने पुलिसकर्मियों को मुक्त कर दिया।