ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
चंदौली के इस गांव में भारी फोर्स लेकर पहुंचे एसडीएम ने अरहर व चेरी की खेती को किया नष्ट, जानिए क्यों उठाया ऐसा कदम?
July 11, 2020 • जावेद अंसारी • वाराणसी-चंदौली


सैकड़ों एकड़ जमीन पर कब्जा कर भू माफियाओं ने कर ली थी खेती

जनसंदेश न्यूज़
चंदौली। सदर तहसील क्षेत्र के जसुरी गांव में जिलाधिकारी और विकास भवन की सैकड़ों एकड़ जमीन एक बार फिर भूमाफियाओं ने कब्जा कर लिया। उक्त जमीन पर दबंग भूमाफियाओं ने बकायदे अरहर और चरी की खेती भी कर दिया था। जैसे ही इसकी जानकारी अधिकारियों को हुआ अधिकारियो में खलबली मच गई। जानकारी होने पर सदर उपजिलाधिकारी विजयनारायन सिंह ने तहसील कर्मियों और भारी पुलिस फोर्स के साथ वहां पहुंचकर ट्रैक्टर से अरहर व चरी के खेती को नष्ट कराया। वही आधा दर्जन भूमाफियाओं के खिलाफ सदर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया। इसको लेकर भूमाफियाओ में हड़कम्प मचा गया। 
जिला मुख्यालय सटे जसुरी गांव में आराजी नम्बर 696 व 826 में लगभग 6.149 व 3.856  हेक्टेयर भूमि जिलाधिकारी चंदौली और विकास भवन के नाम खतौनी में अंकित है। लेकिन हौसला बुलन्द भूमाफियाओ ने बार-बार उस जमीन पर अपना कब्जा कर खेती करने लगते हैं। खेती के सीजन में भूमाफियाओं ने लगभग 40 बीघा जमीन पर धान की रोपाई कर दिया गया था। लेकिन तत्कालीन एसडीएम रहे हीरालाल ने दिसम्बर माह में उक्त 235 कुंतल धान की  फसल को कटवा दिया था। यही नहीं आधा दर्जन कब्जेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। 


वहीं तहसील कर्मियों और पुलिस की देखरेख में धान की बिक्री कर धनराशि तहसील कोष में जमा कराया था। इसके बाद तहसील प्रशासन शिथिल पड़ गया। इस पर हौसला बुलंद भूमाफियाओ ने एक बार फिर उस जमीन पर अपना कब्जा जमा कर अरहर और चरी की खेती कर दिया। इसकी जानकारी होते ही शनिवार को उपजिलाधिकारी विजयनारायन सिंह तहसीलदार लालता प्रसाद, राजस्व निरीक्षक रवि प्रकाश यादव और हल्का लेखपाल पंकज सिंह व भारी पुलिस बल के साथ जसुरी गांव में पहुंच गए। उन्होंने डीएम और विकास भवन के नाम दर्ज जमीन पर लगे अरहर और चरी फसल को बकायदे ट्रैक्टर लगाकर नष्ट करा दिया। वहीं भूमाफिया बनारसी यादव, नरसिंह यादव, रामराज यादव, मनोज व प्रमोद के विरुद्ध कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया। इस सम्बंध में एसडीएम ने बताया कि सरकारी जमीन पर कब्जा कर अरहर और चरी की बुआई कब्जेदारों ने कर दिया था। इसे नष्ट कराकर कब्जेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। अब उस जमीन पर तहसील की तरफ से धान की रोपाई की जाएगी।