ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
बिजली ठीक करने पोल पर चढ़ा लाइनमैन, अचानक चालू हुआ सप्लाई और हाईटेंशन की चपेट में आने से मौत
July 30, 2020 • महर्षि सेठ • जौनपुर-गाजीपुर

घंटो पोल पर ही लटका रहा लाइनमैन का शव

बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाकर ग्रामीणों ने किया हंगामा

नौकरी और मुवावजा की मांग को लेकर हंगामा 

शासन के समझाने के बाद 2 घंटे बाद पोल से उतारा गया शव 

जनसंदेश न्यूज़
जौनपुर। जलालपुर थाना क्षेत्र के सेहमलपुर गांव में बुधवार की देर रात 11 हज़ार वोल्ट की चपेट में आने से पंधारी यादव 30 वर्ष की मौत हो गयी। प्राप्त जानकारी के अनुसार पंधारी यादव शट डाउन लेकर लाइट फॉल्ट सुधारने के लिए पोल पर चढ़े उतने में किसी ने फिटर से लाइट लगा दी, जिससे लाइन मैन की करंट से मौत हो गई। घटना के डेढ़ घण्टे बाद भी शव पोल पर ही लटका हुआ था। बिजली विभाग और प्रशासन का कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा था। आक्रोशित ग्रामीण डीएम को मौके पर बुलाने की मांग कर रहे थे। 
जलालपुर उपकेंद्र से जुड़े सेहमलपुर गांव में रात आठ बजे 11 हज़ार वोल्ट की लाइन में फॉल्ट हो गया। ग्रामीणों की सूचना पर दलपत पट्टी गांव निवासी प्राइवेट लाइनमैन पंधारी यादव (30) फॉल्ट सुधारने मौके पर पहुंचा। ग्रामीणों के मुताबिक उपकेंद्र पर सूचना देकर आपूर्ति बंद कराई गई। रात करीब साढ़े नौ बजे शट डाउन लेकर पंधारी यादव पोल पर चढ़कर फाल्ट सुधारने लगा। इसी दौरान अचानक बिजली चालू कर दी गई। 
हाईटेंशन करंट की चपेट में आने से पंधारी पोल पर ही चिपक गया। काफी देर तक उसका शव जलता रहा। आनन-फानन में ग्रामीणों ने दुबारा उपकेंद्र पर सूचना देकर बिजली बंद कराई, मगर तब तक पंधारी की मौत हो चुकी थी। उसका शव पोल के ऊपर ही तारों से चिपका रहा। सूचना पाकर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। सैकडों की तादाद में जुटे ग्रामीण बिजली निगम पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे।
सूचना पाकर जलालपुर के प्रभारी एसओ केके गुप्ता भी मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों को समझाने की कोशिश की, लेकिन ग्रामीण डीएम को मौके पर बुलाने की मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि शट डाउन लेने के बाद भी बिजली चालू कर दी गई। उपकेंद्र के कर्मचारियों की लापरवाही से घटना हुई है। 
दोषियों पर सख्त कार्रवाई करते हुए मृतक के परिजनों को मुआवजा दिया जाए, इसके बाद ही वह शव पुलिस को ले जाने देंगे। रात साढ़े 11 बजे तक शव पोल पर ही लटक रहा था। बिजली निगम और प्रशासन का कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा था।