ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
भीमराव ने स्वच्छ पेयजल तक सबकी पहुंच को लेकर हो रहे भेदभाव के खिलाफ उठाई आवाज!
August 8, 2020 • डा. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल


जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। एण्ड टीवी के एक लोकप्रिय शो ‘एक महानायक डॉ बी. आर आम्बेडकर’ बाबा साहेब के बचपन के शुरूआती दौर से लेकर उनके भारतीय संविधान के प्रमुख रचयिता बनने तक की कहानी पर प्रकाश डालता रहा है। आगामी ट्रैक एक और महत्वपूर्ण घटना को प्रदर्शित करेगा जहां भीमराव स्वच्छ पेयजल सब तक न पहुंचने के अन्याय के खिलाफ आवाज उठाएंगे। 
इस एपिसोड की शुरूआत भीमराव के दूसरी जाति के कुएं से पानी लाने से होती है क्योंकि वो जिस पानी का उपयोग करते हैं वो दूषित हो जाता है। हालांकि, उन्हें इसके लिए अपमानित किया जाता है और उसे कुएं की पहुंच से वंचित कर दिया जाता है। इस स्थिति में, भीमराव पीने का पानी लाने के लिए क्या करेगा? किस तरह की बाधाएं उसकी प्रतीक्षा कर रही है, और वह सामाजिक असमानता से कैसे लड़ेगा और उन सबसे कैसे जीत हासिल करेगा?
आगामी एपिसोड के बारे में बात करते हुए नेहा जोशी जो बाबासाहेब की मां भीमाबाई की भूमिका निभा रही है, ने कहा, इस विशेष एपिसोड में बाबा साहेब की असमानता के खिलाफ लड़ाई और जरूरतमंदो के लिए पीने के स्वच्छ पानी की आवश्यकता के मूल अधिकार पर प्रकाश डाला गया है। यह इस बात पर रोशनी डालता है कि आसपास के कुएं का पानी कैसे दूसरे कुएं से पानी लाने के कारण दूषित हुआ है और यह दूसरी जाति के विरोध करने का परिणाम होता है। कैसे भीमराव एक बार फिर से सामाजिक वर्जना को चुनौती देने और इसे खत्म करने की लड़ाई के लिए आगे आएगा।