ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
भाई के कलाई पर बहनों के स्नेह का बंधन, रक्षाबंधन पर गुलजार रहे बाजार, नदारद रही चाइनीज राखियां
August 3, 2020 • फोटो - शंकर चततुर्वेदी • मनोरंजन/लाइफस्टाइल


जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। सावन पूर्णिमा यानि सोमवार को भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक रक्षाबंधन का पर्व धूमधाम से मनाया गया। सुबह 8.29 बजे तक भद्रा रहने के कारण बहनों को इस बार भाई के कलाई में राखी बांधने के लिए इंतजार करना पड़ा। इस अवधि के बाद बहनें अपने भाइयों की कलाई पर रक्षासूत्र बांधकर मिठाई खिलाई और उनसे अपनी रक्षा का संकल्प भी लिया। इस दौरान सोमवार को त्योहार की वजह से बाजार भी गुलजार रहे। 


दूसरी ओर रक्षा बंधन को लेकर एक दिन पूर्व रविवार से लेकर सोेेेेेमवार की शाम तक को मिठाई व राखियां खरीदने के लिए प्रमुख बाजार व दुकानों पर काफी भीड़ रही। बाजार में सुबह से ही चहल पहल बनी रही और लोगों की भीड़ से पर्याप्त दूरी बनाते हुए बाजार भी गुलजार रहे। राखी की दुकान से लेकर मिठाइयों की दुकानों तक लोगों की भारी भीड़ लगी रही। 


इस बार कोरोना वायरस संक्रमण और चीन से खराब रिश्तों की वजह से चीन की बनी राखियां बाजार से नदारद रहीं हालांकि बीते वर्षों में बचे स्टॉक को निकालने के लिए कुछ कारोबारियों ने अपनी दुकान पर चीन की बनी राखियों को दुकान में बिक्री के लिए रखा। लोगोें का रुझान परंपरागत राखियों की ओर ही अधिक रहा।