ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
भारतीय महिलाएं चीन के सामानों उपयोग नहीं करने का लिया संकल्प, बनेंगी आत्मनिर्भर
June 30, 2020 • डा. दिलीप सिंह • वाराणसी-चंदौली

प्रधानमंत्री के आह्वान पर आत्मनिर्भर बनने का लिया संकल्प

आम लोगों को भी चीन के सामानों को उपयोग करने से रोकें

जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। हमें चीनी सामान का बहिष्कार अवश्य करना चाहिए इसके लिए हमें यह प्रण लेना होगा कि भविष्य में हम चीनी वस्तुओं का उपयोग नहीं करेंगे तथा दूसरे लोगों को भी चीनी सामानों का उपयोग नहीं करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। आज विश्व में जो स्थिति बनी हुई है इसका कारण चीन ही तो है जिसकी वजह से पूरा देश वैश्विक महामारी के दौर से गुजर रहा है। इसे चीन की लापरवाही कहिए या साजिश जिसके वजह से पूरी दुनिया कोरोना नामक महामारी से जूझ रहा है। भारत की जनता ने चीनी सामान के बहिष्कार के लिए जो अभियान चला रखा है, उसमें हमें अपना पूरा सहयोग देना चाहिए। 


 चीन लगातार भारत के सामने बाधाएं खड़ी कर रहा है। चीनी सामानों के वजह से भारत भारत में बहुत से लोगों के काम धंधे चौपट हो गए हैं चीन लगातार हमारी अर्थव्यवस्था को चोट पहुंचा रहा है। सार्थक सेवा की अध्यक्ष पूजा गिरी ने कहा कि हमें प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी के आह्वान पर आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लेते हुए भविष्य में कार्य करने चाहिए और यह तभी होगा जब हम पूरी तरह से चीनी सामानों का बहिष्कार करेंगे। इसलिए मैं भारत वासियों से नम्र निवेदन है कि सभी चीनी सामान का बहिष्कार करें तथा भविष्य में  चीनी सामानों का उपयोग न करें।


 हमें चीनी सामानों का बहिष्कार करके स्वदेशी सामानों को अपनाना चाहिए। हमें पूरी तरह से भारतीय कंपनियों के उत्पाद खरीदना चाहिए। विदेशी कंपनी हमारे देश में धीरे-धीरे कब्जा कर रही है। मॉल से लेकर छोटी दुकानों पर कब्जा की हुई है। जिससे हमारे देश की स्थिति कमजोर होती जा रही है।


सुनीता गुप्ता ने कहा कि हमें चीनी सामानों का बहिष्कार करके स्वदेशी सामानों को अपनाना चाहिए। हमें पूरी तरह से भारतीय कंपनियों के उत्पाद खरीदना चाहिए। विदेशी कंपनी हमारे देश में धीरे-धीरे कब्जा कर रही है। मॉल से लेकर छोटी दुकानों पर कब्जा की हुई है। जिससे हमारे देश की स्थिति कमजोर होती जा रही है। मैं एक भारतीय नागरिक होने के खातिर यह संकल्प लेती हूं कि मैं चाइना कि सभी वस्तुओं का बायकॉट करती हूं तथा इस मुश्किल घड़ी में देश के साथ खड़े रहीए था मके इन इंडिया मडे इन इंडिया को बढ़ावा दीजिए। हम भारतीय जब तक अलग हैं तब तक खुला हाथ हैं जिस दिन एक साथ हो गए तो बंद मुट्ठी हैं।

इस अवसर पर आरती, प्रियंका, पारुल, शालिनी, बीना, उमा, सारिका, उर्मिला, तारिका, अर्चना, बिंदु, स्वाति, प्रवर्तिका और पूनम पांडेय ने चीन के सामानों का पूर्ण रूप से बहिष्कार करने का निर्णय लिया।