ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
बनारस के उंदी में दिखेगा मानव और पर्यावरण के अंतर्संबंध का बेहतर नजारा, कार्ययोजना तैयार, 2.54 करोड़ होंगे खर्च 
August 19, 2020 • संतोष तिवारी बिंदास • वाराणसी-चंदौली

तालाब के सुंदरीकरण के लिए वीडीए ने बनाई योजना, नई दिल्ली की एक्सपर्ट टीम से साधा संपर्क

संतोष तिवारी बिंदास
वाराणसी। उंदी ताल की जमीन पर बनने वाले टूरिस्ट इको स्पॉट को पहले से और भी आकर्षक बनाया जाएगा। मानव और पर्यावरण के बीच बेहतर संबंध का सुंदर और बेहतर नजारा वहां दिखे इसके लिए वीडीए ने नई दिल्ली की एक्सपर्ट फर्म से संपर्क साधा है। सितंबर में टीम यहां आएगी और वहां की सुंदरता में चार चांद लगाने के लिए वह हर जतन करेगी। सबकुछ करने के पीछे मकसद है बनारस को पर्यटन का हब बनाना। 

वाराणसी विकास प्राधिकरण करीब 32 हेक्टेयर जमीन पर उंदी में टूरिस्ट इको स्पॉट विकसित कर रहा है। इसके लिए धन का इंतजाम भी वीडीए ने कर लिया है। पहले चरण में करीब 4400 मीटर लंबी इको फ्रेंडली दीवार बनेगी। इसके लिए कंपनी का फर्म का चयन भी हो गया है। इस काम पर 2 करोड 54 लाख रुपए खर्च होंगे। इस काम की शुरुआत भी होने वाली है। साइकिल ट्रैक भी बनेगा। वीडीए वीसी राहुल पांडेय ने बताया कि जो डीपीआर बनाया जाएगा। उसमें साइकिल ट्रैक को भी शामिल किया जाएगा। 

दरअसल, इको फ्रेंडली के साथ ही यहां पर गवई परिवेश को भी आकर देना है। इसके लिए गांव में बनने वाले मचान से लगायत गेहूं पिसने वाली जांत आदि वस्तुएं आकर्षक ढंग से बनाई व विकसित की जाएगी, ताकि गांवों के रहन-सहन को भी शहर में रहने वाली युवा व नई पीढ़ी जाने। ऐसा होने से बनारस आने वाले पर्यटकों का उंदी में रुझान बढ़ेगा। वहीं झील का स्वरूप विकसित करने से साइबेरियन समेत अन्य पक्षियों का भी यहां जुटान होगा। जिससे मनभावन माहौल बनेगा।