ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
और भी भव्य होगा सारनाथ का स्वरूप, वर्ल्ड बैंक के प्रोजेक्ट से 100 करोड़ की लागत में कराएंगे विकास कार्य
June 27, 2020 • जनसंदेश न्यूज • वाराणसी-चंदौली

 

- उत्तर प्रदेश के पर्यटन मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने मीटिंग कर दी हरी झंडी

- चौखंडी से रेलवे स्टेशन तक पाथ-वे, 26 मंदिरों के पहुंच मार्ग होंगे बेहतर

- आध्यात्मिक पुस्तकालय और स्किल डेवलपमेंट सेंटर का भी होगा निर्माण

- लोकल वेंडरों को बेहतर इंतजाम, हस्तशिल्पियों के लिए खुलेंगे कई रास्ते

जनसंदेश न्यूज

वाराणसी। अंतरराष्टÑीय पर्यटन स्थल सारनाथ को और भी भव्य बनाएंगे। वर्ल्ड बैंक की सहायता से प्रो-पुअर पर्यटन विकास परियोजना के तहत लगभग 100 करोड़ रुपये की लागत से इसे मूर्त रूप देंगे। क्षेत्र के 26 मंदिरों तक पहुंच मार्ग अंतरराष्टÑीय स्तर का होगा। पाथ-वे, सीसीटीवी कैमरे, वाई-फाई, वेंडरों के लिए कई बड़े अवसर आदि भी शामिल करेंगे।

सूबे के पर्यटन, संस्कृति, धर्मार्थ कार्य एवं प्रोटोकॉल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. नीलकंठ तिवारी ने शनिवार को सर्किट हाउस सभागार में पर्यटन विकास संबंधी बैठक में अफसरों को यह निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि सारनाथ के पर्यटन विकास में चौखंडी से रेलवे स्टेशन तक पाथवे का निर्माण, तीन प्रवेशद्वारों में एक आशापुर में पहले से बना हुआ है, इसके अलावा रिंग रोड और रेलवे स्टेशन के प्रवेश मार्ग पर भगवान पर आधारित इंट्री गेट बनेगा। उसमें काशी की भी छटा भी शामिल होगी।

डॉ. नीलकंठ ने बताया कि सारनाथ के 26 मंदिरों के पहुंच मार्ग अंतरराष्ट्रीय स्तर के बनाए जाएंगे। संग्रहालय से सारनाथ तक की रोड का सुंदरीकरण होगा। डियर पार्क का विस्तार और सुंदकीकरण समेत बच्चों के लिए झूला वगैरह लगवाए जाएंगे। सम्राट अशोक के काल में बने नाले को एसटीपी का उपयोग करते हुए ढका दें। सारनाथ में बौद्ध एवं जैन धर्म पर आधारित आध्यात्मिक पुस्तकालय स्थापित होगा।

उन्होंने बताया कि क्षेत्र में स्किल डेवलपमेंट सेंटर बनेगा ताकि स्थानीय कलाकार व हस्तशिल्पी अपनी कलाकृति का वैल्यू एडिशन कर सकें। वह इस ट्रेनिंग सेंटर के जरिये अंतरराष्ट्रीय स्तर की तकनीकी का प्रयोग कर विदेशों में अपनी सामग्री निर्यात भी कर सकेंगे। राज्यमंत्री ने इसके लिए डीपीआर बनाने का निर्देश देते हुए कहा कि सारनाथ में पर्यटकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीसीटीवी कैमरे, वाईफाई और एलईडी स्क्रीन भी लगाए जाएंगे।

राज्यमंत्री ने कहा कि इलाके के लोकल वेंडरों को बढ़ावा देने के लिए उनके ठेलों का आकर्षक पेंटिंग सहित आधुनिक बनाया जाएगा। स्थानीय दिव्यांगजनों को गोल्फ कार्ट मुहैया कराते हुए सीधे पर्यटन से जोड़ेंगे। मीटिंग में कमिश्नर दीपक अग्रवाल, संयुक्त निदेशक पर्यटन अविनाश चंद्र मिश्र, पर्यटन अधिकारी कीर्तिमान श्रीवास्तव भी थे।

प्रोजेक्ट में यह कार्य भी होंगे

- सारनाथ के राही पर्यटन आवास गृह का उच्चीकरण, पर्यटक थाने को आधुनिक स्वरूप, थाने में टूरिस्ट सेंटर आदि। जिससे यहां आने वाले पर्यटक सुधक स्मृतियों को लेकर अपने देश लौटें।

यह भी कहा----

- शूलटंकेश्वर महादेव, ज्वरहरेश्वर महादेव, शंकुलधारा मठ और ओंकारेश्वर महादेव मंदिर का सुंदरीकरण कार्य एवं पर्यटन विकास कार्य जारी है। कैथी स्थित मारकंडेय महादेव में संचालित संगम घाट एवं वर्तमान घाट का निर्माण कार्य गुणवत्ता के साथ तय समय में पूर्ण कराएं।