ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
अल्पसंख्यक विभाग में बड़ा स्कॉलरशिप घोटाला! फर्जी खातों में भेजी करोड़ों की धनराशि
July 17, 2020 • अजय सिंह उर्फ राजू • जौनपुर-गाजीपुर

 शिक्षा माफियाओं का गिरोह जिले में सक्रिय

जनसंदेश न्यूज़
गाजीपुर। जिले में अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को दी जानी वाली छात्रवृत्ति में बड़े स्तर पर घोटाला सामने आया है। यह छात्रवृत्ति भारत सरकार द्वारा नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल के माध्यम से अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को दी जाती है। जिले में बिरनों, मरदह, जखनियां आदि जगहो पर फर्जी बैंक खाते खोलकर करोड़ रुपये से अधिक छात्रवृति का गबन किया गया है। स्कॉलरशिप की रकम हड़पने के लिए गैंग ने जिन शिक्षण संस्थाओं और बच्चों के नाम का उपयोग किया उनमें से अधिकतर फर्जी बताएं जा रहे है। गैंग में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के अफसरों की भूमिका संदिग्ध मानी रही है।  
जिले में अल्पसंख्यक विभाग से प्रतिवर्ष करोड़ांे रूपएं की छात्रवृति छात्रों की दी जाती है। सभी कालेज ऐसे लाभान्वित छात्रों की सूची विभाग को उपलब्ध कराते है। अनुमान लगाया जाता है कि अधिकारी सूची का ठीक से सत्यापन नहीं कराते है या मोटी रकम देखकर आंख बंद कर लेते है। शिक्षा माफिया इसका फायदा उठाकर फर्जी खातों के जरिए सरकार का धन हड़प लेता है। जबकि गरीब छात्रों को इस धनराशि का पता तक नहीं चलता है। सूत्रों के मुताबिक बिरनो ,मरदह ब्लाक के  दो दर्जनो से अधिक कालेज फर्जी छात्रों को दिखाकर 2018-19 वर्ष का छात्रवृति उतारा है। इस फर्जीवाड़े कार्य में बैक का भी सहारा लिया गया है। पूरे क्षेत्र में गैंग कार्य कर रहा है। इस गैंग का सरगना मरदह ब्लाक का ही बताया जा रहा है। जिसका संपर्क विभाग में काफी उपर तक बना हुआ है। 
इस कार्य को गिरोह बहुत ही बारीकी से करते है। पहले यह फर्जी छात्रों का बैंक अधिकारियों से मिलकर खाता खोलते है। उसके बाद विभाग से इन खातों में रकम भेजवाकर अपने में मिलकर बांट लेते है। यह गिरोह जिले में काफी दिनों से इस कार्य को अंजाम दे रहा है। लेकिन आलाधिकारियों को इसकी भनक तक नहीं लग पाई।

दरअसल, जनसंदेश टाइम्स के पास ऐसे दो दर्जन से अधिक कालेजों की सूची उपलब्ध है। उनमें ऐसे भी कालेज है, जिनको पता नहीं लेकिन उनके स्कूल के नाम पर छात्रवृति उतार ली गई है। हालांकि, सरकार ने स्कॉलरशिप में घोटाला रोकने के लिए रकम सीधा बच्चों के बैंक खातों में ट्रांसफर करना शुरू किया मगर घोटालेबाजों ने उसका भी तोड़ ढूंढ निकाला। छात्रवृत्ति के लिए छात्रों की सूची अग्रसारित करने वाली कुछ संस्थाओं ने फर्जी रूप से दूसरे कालेजों के नाम पर स्कालरशिप हड़पने की योजना बना दी। वहीं बहुत से ऐसे संस्था है जो सिर्फ कागजों पर ही चलते है। इस संबंध में जिला अल्पसंख्यक अधिकारी प्रभात कुमार ने बताया कि इन सभी कालेजों की जांच की जाएगी। सभी चिन्हित कालेज को नोटिस भेजने की तैयारी चल रही है। जांच में किसी प्रकार की गड़बड़ी मिलने पर विभागीय सहित कानूनी  कठोर कार्रवाई की जाएगी।  इधर सीडीओ श्री प्रकाश गुप्ता को भी इस प्रकरण से अवगत कराया गया है। जिसमें उन्होंने निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया है।