ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली मीरजापुर-सोनभद्र-भदोही जौनपुर-गाजीपुर आजमगढ़-मऊ बलिया इलाहाबाद देश-विदेश करोना वायरस मनोरंजन/लाइफस्टाइल
आशीष कादियान ने लॉकडाउन में मां के साथ मनाया जन्मदिन
June 19, 2020 • डा. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल

जनसंदेश न्यूज 
इंदौर। मौजूदा लॉकडाउन की वजह से यह समय नई-नई चीजों को सीखने और पेंटिंग, कुकिंग, सिंगिंग जैसे अपने पुराने शौक को दोबारा पूरा करने का है। यह एक मौका है अपने करीबी लोगों और प्रियजनों के साथ यादगार लम्हें बनाने का। हमारा हमेशा ही यह सपना होता है कि हम अपने करीबी दोस्तों के साथ एक शानदार बर्थडे पार्टी मनायें। लेकिन इस साल एण्ड टीवी के ह्यसंतोषी मां सुनाये व्रत कथायेंह्ण में इंद्रेश की भूमिका निभा रहे, आशीष कादियान का बर्थडे बेहद साधारण होने के बावजूद काफी यादगार रहा। 
हर साल आशीष कादियान अपना बर्थडे काफी धूमधाम से मनाते रहे हैं और उन्हें इस खास दिन का बेसब्री से इंतजार रहता है। वैसे, इस साल यह और भी खास हो गया, क्योंकि उन्होंने इसे घर पर अपनी मां के साथ मनाया। अपने लॉकडाउन बर्थडे के बारे में बताते हुए, आशीष कादियान कहते हैं, मेरे दिन की शुरूआत अपनी मां के साथ एक अच्छे योगा सेशन के साथ हुई। इसके बाद हमने नाश्ते का आनंद उठाया, जिसे खासतौर से मेरे लिये बनाया गया था। इसमें मेरी पसंद के सभी पंजाबी पकवान जैसे कि पूड़ी-आलू, आलू पराठा और स्पेशल चटनी शामिल थीं। मुझे चाय पीना बहुत पसंद नहीं, लेकिन मेरी मां मेरे लिये जो चाय बनाती हैं वह मुझे सचमुच अच्छा लगता है। इसके बाद हमने एक शानदार लंच किया, जिसमें मेरी पसंद की काफी सारी चीजें थीं, जैसेकि राजमा-चावल, छोले-भटूरे बगैरह। लेकिन मेरे पूरे दिन की सबसे अच्छी चीज थी ह्यआटे का हलवाह्ण। इसे मेरी प्यारी मां ने बहुत प्यार से बनाया था। मेरा बचपन एक पंजाबी घर में बीता है, जहां हमें त्यौहारों और खास मौकों पर यह हलवा खाना बहुत अच्छा लगता था। यह पकवान हमेशा ही मेरे दिल के करीब रहेगा, फिर  चाहे मेरे पास कितने भी केक और फैंसी डेजर्ट क्यों ना हों।  
केक काटकर मॉडर्न तरीके से अपना बर्थडे मनाने की बजाय, आशीष ने हलवे का स्वाद चखते हुये अपना जन्मदिन मनाने का यह पारंपरिक तरीका चुना। इस स्वादिष्ट हलवे को उनकी मां ने खासतौर से उनके लिये बनाया था। इस दिन के बारे में आगे बताते हुए वह कहते हैं, ह्यह्यजब से मुझे पता है कि बर्थडे सेलिब्रेशन क्या होता है, तब से लेकर आज तक का यह मेरा सबसे शानदार बर्थडे रहा। भले ही मैं अपने काफी सारे करीबी दोस्तों को नहीं देख पाया, लेकिन ऐसा कभी नहीं हुआ कि मुझे खासतौर से यह पूरा दिन अपनी मां के साथ बिताने का मौका मिला हो। अच्छे-अच्छे खाने के साथ दिन की शुरूआत करने से लेकर अपने बर्थडे से जुड़ी बचपन की कुछ बेहद ही अच्छी यादों के बारे में बात करने और अपनी पसंद की फिल्में देखने तक, मैंने हर पल का भरपूर मजा लिया। इससे बेहतर कुछ और हो ही नहीं सकता था। इतने सालों बाद यह वाकई एक बहुत ही अच्छा बर्थडे रहा।
लॉकडाउन में काफी सारे बर्थडे सेलिब्रेशन देखने को मिले, कुछ लोग घर पर रहने को लेकर काफी उत्साहित थे, तो कुछ लोगों को अपने बर्थडे का शानदार प्लान पर पानी फिरने का अफसोस मना रहे थे। जो लोग मनचाहे तरीके से अपना बर्थडे ना मना पाने की वजह से दुखी हैं, उन्हें आशीष कादियान कहना चाहते हैं कि ह्यह्यइस लॉकडाउन से हमें यह सीखना चाहिये कि किस तरह इन खुशियों को मनाया जाये और उन्हें खास बनाया जाये क्योंकि ये दिन फिर कभी लौटकर नहीं आने वाले। जब हम सब अपना काम करना शुरू कर देंगे, तो हमें इन दिनों की बहुत याद आयेगी।