ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
‘तेरा यार हूं मैं’ में आने वाला है रोचक ट्वीस्ट, क्या यहां से होगी पिता-बेटे के बीच यारी की शुरूआत?
September 11, 2020 • डॉ. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल



जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। सोनी सब का स्लानइस ऑफ लाइफ शो ‘तेरा यार हूँ मैं’ पिता और बेटे के रिश्ते का वास्तविक सार दिखाता है। इस शो में दर्शकों को बंसल परिवार का जीवन दिखाया गया है, जिसमें एक पिता अपने किशोर बेटे का दोस्त बनने की कोशिश कर रहा है। राजीव (सुदीप साहिर) अपने बेटे ऋषभ (अंश सिन्हा) की भाग-दौड़ वाली जिन्दगी के साथ ताल-मेल बिठाने का भरपूर प्रयास कर रहे हैं और यह शो एक संयुक्त परिवार की खट्टी मीठी यात्रा भी दिखाता है। ‘तेरा यार हूँ मैं’ के आगामी एपिसोड दर्शकों के दिल को छूएंगे और उन्हें भावनाओं की यात्रा पर लेकर जाएंगे। 
ऋषभ अपने खोए हुए फोन को ढूंढने की तमाम कोशिशें कर रहा है। वह उसे वापस पाने के लिये ऋषभ उत्सुक है। वह अपने फोन का पता लगा लेता है और अपने दोस्त स्वप्निल की बाइक लेकर अपने कजिन वरूण (गौतम आहूजा) के साथ लोकेशन की ओर निकलता है। हालांकि, वहाँ पहुँचने के ठीक पहले दोनों का एक्सीडेंट हो जाता है। दूसरी ओर, अपने बेटे की परेशानी देखकर राजीव एक नया स्मार्टफोन खरीदते हैं, ताकि ऋषभ को सरप्राइज गिफ्ट दे सकें।
जब बंसल परिवार को ऋषभ के एक्सीडेंट के बारे में पता चलता है, तो वे चिंतित हो जाते हैं और घर आने पर ऋषभ अपने चिंतित पिता से मिलता है। लापरवाही के लिये राजीव उसे डांटते हैं, यह पूछने से पहले कि उसे चोट तो नहीं आई है। अपने पिता की डांट से दुखी होकर ऋषभ कहता है कि उसे उनके गुस्से की उम्मीद थी और इसलिये वह अपनी परेशानी लेकर उनके पास नहीं गया। जब ऋषभ कहता है कि उसके दोस्त उसे उसके पिता से ज्यादा सहयोग देते और समझते हैं और पिता केवल उसकी गलतियाँ ढूंढते हैं, तब राजीव अवाक् रह जाते हैं। 
अपनी गलती जानने के बाद राजीव अपने तरीकों में कैसे सुधार करेंगे? क्या वह अपने बेटे का दोस्त बन पाएंगे?
राजीव की भूमिका निभा रहे सुदीप साहिर ने कहा, ‘आने वाले एपिसोड्स जीवन और भावनाओं से भरे हैं। दर्शक देखेंगे कि राजीव और ऋषभ कैसे एक-दूसरे को समझने के लिये संघर्ष करते हैं। राजीव अपने बेटे का साथ देने के लिये हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं, लेकिन स्थितियाँ ऐसी हो जाती हैं कि उनके पास उसे डांटने के अलावा कोई चारा नहीं रहता है। राजीव को सबसे बड़ा अहसास ऋषभ की एक बात से होता है, जो पैरेंटिंग के उनके तरीके पर उनका नजरिया बदल देगी। आने वाले एपिसोड्स ऐसी भावनाओं से भरे होंगे, जिनसे हमारे दर्शक जुड़ सकते हैं।