ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ में स्वाति करेगी नई बाधाओं का सामना 
July 9, 2020 • डा. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल

जनसंदेश न्यूज 
इंदौर। एण्ड टीवी के ह्यसंतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएंह्य एक ऐसा शो है जो ह्यभक्त और भगवानह्य के बीच के पवित्र संबंध को दशार्ता है। आगामी एपिसोड्स में संतोषी मां की प्रिय भक्त स्वाति और सिंहासन सिंह के बीच ढ़ेर सारा ड्रामा देखने को मिलेगा। सिंहासन सिंह, जो अपनी बहू स्वाति को घर से बाहर निकालना चाहता है, वो अपने पूरे समुदाय और परिवार को साथ में लाकर संतोषी मां का व्रत रखेगा। इस व्रत के जरिए वो संतोषी मां से वरदान पाना चाहता है। इससे संतोषी मां एक बड़ी दुविधा में फंस जाएंगी, क्योंकि उन्हें धर्म-अधर्म यानि की अपनी प्रिय भक्त स्वाति और दुष्ट सिंहासन सिंह में से किसी एक को चुनना होगा।
  हर व्रत अगर सही तरह से किया जाता है तो वह फल देता है, लेकिन अगर इसके उलट होता है तो ये भक्तों को बड़े संकट में भी डाल सकता है। संतोषी मां के व्रत के कुछ विशिष्ट नियम और विधियां हैं, जिनका पालन भक्त को लाभ पाने के लिए करना होता है। संतोषी मां की प्रिय भक्त स्वाति अपने व्रत के आयोजन की प्रक्रिया कर रही हैं, लेकिन उसे यह नहीं पता है कि उसके साथ क्या होने वाला है। उसके अनुष्ठान में बाधा डालने के लिए लवली उसके जूस में नींबू का रस मिला देता है। अनुष्ठान के अनुसार संतोषी मां का व्रत करने के दौरान खट्टे भोजन या पेय के सेवन से बचना चाहिए। जो हुआ उन सबसे अनजान स्वाति अनजाने में विधि को गड़बड़ कर देती है और उसे दंड मिलता है।
 इस सीन के बारे में बात करते हुए स्वाति का किरदार निभाने वाली तन्वी डोगरा कहती हैं, भले ही स्वाति ने संतोषी मां से अपनी पूरी निष्ठा के साथ इंद्रेश (आशीष कादयान) को वापस जीत लिया है लेकिन अब वह एक और नई चुनौती का सामना करेगी। वो अपने परिवार को एक-साथ रखने के लिए लगातार संघर्ष कर रही है, लेकिन सिंहासन सिंह उसके लिए परिस्तिथियों को कठिन बनाने में जुटा है। आगामी एपिसोड्स में हम देखेंगे कि स्वाति को किसी और के धोखे के परिणाम का सामना करना पड़ेगा। इस सीरीज में कई ऐसे अप्रत्याशित ट्विस्ट आएंगे जिसमें एक बार फिर सिर्फ स्वाति के विश्वास की ही परीक्षा नही होगी बल्कि संतोषी मां को भी धर्म और अधर्म में से एक को चुनना होगा। झूठ की बुनियाद पर रखे गए एक व्रत के कभी भी सुखद परिणाम नही होते। क्या स्वाति व्रत की विधि को सफलतापूर्वक पूरा करने में कामयाब होगी? क्या एक बार फिर संतोषी मां स्वाति को बचा पाएंगी? संतोषी मां अच्छे और बुरे के बीच की दुविधा से आखिर कैसे निकलेंगी?