ALL जनसंदेश एक्सक्लूसिव वाराणसी-चंदौली पूूर्वांचल इलाहाबाद लखनऊ कानपुर-गोरखपुर आगरा देश-विदेश सृजन मनोरंजन/लाइफस्टाइल
‘अलादीन: नाम तो सुना होगा’ में अपने नये लुक ‘प्रिंस अलादीन’ का लुफ्त उठा रहे सिद्धार्थ 
September 7, 2020 • डॉ. दिलीप सिंह • मनोरंजन/लाइफस्टाइल

प्रिंस अलादीन का लुक शाही, धारदार और आकर्षक: सिद्धार्थ

जनसंदेश न्यूज़
इंदौर। टीवी सेंसेशन और स्टाइल आइकन सिद्धार्थ निगम, को अपनी शानदार परफॉर्मेंस और सोनी सब के शो अलादीन: नाम तो सुना होगा में बदले हुए शाही लुक के कारण अपने फैंस से ढेर सारा प्यार और सपोर्ट मिल रहा है। वह अपने बेमिसाल लुक्स और जबर्दस्त परफॉर्मेंस से हमें 2013 से आकर्षित कर रहे हैं। अलादीन: नाम तो सुना होगा की कहानी ने हाल ही में रोमांचक मोड़ लिया है, जहां शो के हीरो-हीरोइन अलादीन और यास्मीन की मौत हो जाती है और वह अपनी मौत का बदला लेने के लिए फिर से जन्म लेते हैं। शो की कहानी में पुनर्जन्म से आए टिवस्ट के बाद सिद्धार्थ निगम को अब राजकुमार के रूप में देखा जा सकेगा। घर-घर में अब जाना-पहचाना नाम बन चुके सिद्धार्थ ने अपने लुक में आए बदलाव की कहानी शेयर की। अब वह गरीबों के मसीहा से तुर्कमेनिस्तान के राजकुमार बन गए हैं। यह बदलाव भी उसी तरह आकर्षक होगा, जैसा कि एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में उनका अब तक का सफर रहा है।

सिद्धार्थ को अब ऐसे अवतार में देखा जा सकेगा, जैसे उन्हें अब तक कभी स्क्रीन पर कभी नहीं देखा गया है। सिद्धार्थ अब बिल्कुल नए लुक के साथ अलादीन का किरदार निभा रहे हैं। उनके कैरेक्टर में काफी बदलाव आए हैं। सिद्धार्थ को असल जिंदगी में एथेलेटिक्स आउटफिट्स से प्यार है। इस शो में वह शाही किरदार के रूप में अपने बदलाव का आनंद उठा रहे हैं। शो के नए ट्रैक में सिद्धार्थ को न सिर्फ घुड़सवारी करते, बल्कि शरीर में रोमांच की जबर्दस्त लहर पैदा करने वाले स्टंट करते देखा जा सकेगा। अब इस शो में उन्हें स्टाइलिश अवतार की राजसी पोशाकों के साथ दिखाया जाएगा, जो अपनी अलग स्टाइल और क्लास के बारे में काफी मुखर अभिव्यक्ति देते हैं। 

प्रिंस अलादीन के रूप में अपने कैरेक्टर के पुर्नजन्म के बारे में सिद्धार्थ ने कहा, ‘शो की कहानी में कुछ इस तरह का ट्विस्ट आया है, जिसकी किसी दर्शक ने उम्मीद नहीं की थी। अलादीन और यास्मीन की मौत और अलग-अलग इंसानों के रूप में उनके जन्म के साथ अब शो में अलादीन और यास्मीन को अपनी अधूरी कहानी फिर से लिखते देखा जाएगा। मैं यह जानकर बेहद उत्साहित था कि अलादीन के चरित्र में कई बदलाव आएंगे। दिल से वह वही अलादीन है, जो वह पहले था, लेकिन उनका अंदाज बदल गया है। एक अभिनेता के तौर पर कुछ नया करना और अभिनय में अपनी सीमाओं का विस्तार करना हमेशा से दिलचस्प होता है। इस नए अलादीन ने मुझे अपने कंफर्ट जोन से भी बाहर निकलने में मदद दी है। इसने मुझे अलादीन को नई रोशनी में देखने के लिए प्रोत्साहित किया है। प्रिंस अलादीन जिंदादिली से भरपूर है, शरारती और बिगड़ैल इंसान है। 
अपने नए लुक्स के बारे में सिद्धार्थ ने कहा ‘प्रिंस अलादीन के लुक में सबसे अच्छी बात यह है कि यह केवल राजसी या शाही ही नहीं है, बल्कि असल में इसका व्यक्तित्व काफी धारदार और आकर्षक है। इस किरदार को आज के दर्शकों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। अलादीन के एक नहीं, बल्कि तीन लुक हैं, जो एक दूसरे से काफी अलग हैं। इसके साथ ही इस शो में पुराने जमाने का अंदाज भी बरकरार रखा गया है। मुझे व्यक्तिगत रूप से अलादीन की काली पोशाक पसंद है। मैं सोचता हूं कि यह काफी आधुनिक है और मेरी पर्सनल स्टाइल के बहुत नजदीक है। राजा महराजा का वंशज होने के नाते अलादीन के शरीर पर बहुत सारे बेशकीमती गहने भी रहते हैं।

कहानी के हर कैरेक्टर का खास अंदाज होता है, जिससे दर्शक खुद को जोड़ते हैं। सिद्धार्थ ने इस विषय पर अपने विचार साझा करते हुए कहा, पोशाक किसी चरित्र और किसी कलाकार को पारिभाषित करने में मुख्य भूमिका निभाती है। हमारे दर्शक हमें उसी ड्रेस और चरित्र से पहचानते हैं। एक कलाकार के रूप में ड्रेसेज मुझे अपने कैरेक्टर में जाने में मदद करती है। प्रिंस अलादीन का कैरेक्टर चंचल, युवा और एनर्जी से भरपूर है। इसलिए शो में मेरा लुक काफी धारदार है। यह चमकदार रंग के कपड़ों और एसेसरीज से सजा-धजा क्लीन शेव और साफ-सुथरा लुक है।  यह काफी सुहाना बदलाव है। शो में दर्शक मेरे नए लुक को काफी पसंद कर रहे हैं। मैं इस तरह का जबर्दस्त रिस्पांस देखकर काफी खुश हूं। बदलाव केवल पोशाक और मेकअप से नहीं होता। आर्टिस्ट के सामने सबसे बड़ी चुनौती उससे आगे किरदार को प्रभावशाली ढंग से निभाना होता है।

सिद्धार्थ इस बात से सहमत होकर कहते हैं, किसी रोल के लिए कॉस्ट्यूम और मेकअप पहला कदम है। उसके बाद सबसे बड़ी चुनौती सेट पर कदम रखते ही अपने आप को भूलना होता है। कैरेक्टर में अपनी भावनाएं नहीं दिखा सकते। उसकी जगह उस चरित्र की भावनाएं आ जाती हैं। यह काफी चुनौतीपूर्ण है, पर यह एक्टर के रूप में मेरा काम है। मैं स्क्रीन पर या ऑन कैमरा अपनी असल भावनाएं दिखाने में यकीन रखता हूं। यहां तक कि मैं इमोशनल सीन में आंसू लाने के लिए एक्टिवेटर्स का प्रयोग नहीं करता। मैं अपने स्टंट खुद करता हूं। मैं अपने डायलॉग की लाइनें कभी रटता नहीं हूं, बल्कि एक बार पढ़ लेता हूं। मैं समझने की कोशिश करता हूं कि भावनाएं और हालात क्या हैं और फिर उसे अलादीन के नजरिये से उस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करता हूं।

जब उनसे पूछा गया कि क्या शो में अपने किरदार से वह अपने को जोड़ पा रहे हैं, सिद्धार्थ ने कहा, अलादीन चंचल और खिलाड़ी किस्म का कैरेक्टर है। वह जिस काम को ठान लेता है, उसे पूरा करता है। मैं महसूस करता हूं कि मैं असल जिंदगी में अलादीन की तरह ही हूं। मुझ में उसी की तरह एनर्जी है। मैं भी अधिकतर समय खिलाड़ी के अंदाज में ही रहता हूं और मैं भी उसी की जगह अपने सपनों का पीछा कर अपने लक्ष्य को हासिल करने की कोशिश करता हूं। असाधारण रूप से प्रतिभाशाली सिद्धार्थ ने एक बाल कलाकार के रूप में अपने सफर की शुरूआत की थी। उन्होंने बेहद सफलतापूर्वक लोगों के दिल में अपना खास मुकाम बना लिया है। वह अपने कार्य के प्रति समर्पित हैं और एक कलाकार के रूप में लगातार अपनी अभिनय क्षमता में सुधार कर दिन पर दिन आगे बढ़ना  चाहते हैं। अलादीन: नाम तो सुना होगा में सिद्धार्थ को अलग-अलग नए लुक्स में रॉक करते हुए देखिए, सोनी सब पर, हर सोमवार से शुक्रवार 9.30 बजे। शो में सिद्धार्थ आपको अपने साथ नए रोमांचक सफर पर ले जाएंगे।